नई दिल्ली। पेप्सीको की चीफ एक्जीक्यूटिव ऑफिसर इंद्रा नूई 12 साल के अपने कार्यकाल के बाद अपने पद से हटेंगी. कंपनी ने एक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी है. न्यूयॉर्क की कंपनी पेप्सीको के प्रेसिडेंट रामोन लागुआर्ता इंद्रा नूई की जगह लेंगे. बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने 54 साल के रामोन लागुआर्ता को सर्वसम्मति से इंद्रा नूई की जगह कंपनी के नए सीईओ होंगे. नूई ने अपने बयान में कहा कि मैं भारत में पली बढ़ी हूं. मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी कि मुझे ऐसी असाधारण कंपनी की अगुवाई करने का मौका मिलेगा. नूई ने कहा कि कंपनी काफी मजबूत स्थिति में है और आगे उसके काफी बेहतर दिन आएंगे. Also Read - घर बैठे ऑर्डर करें लेज-कुरकुरे, एक घंटे में हो जाएगी डिलिवरी

24 साल से कंपनी के साथ

आईआईएम कोलकाता से पासआउट और येल यूनिवर्सिटी से पढ़ाई कर चुकीं 62 साल की इंद्रा नूई को पेप्सिको को नई ऊंचाई पर पहुंचाने का श्रेय जाता है. इंद्रा नूई पेप्सीको में 24 साल की लंबी पारी के बाद 3 अक्टूबर को अपना पद छोड़ेंगी जिनमें से 12 साल वह सीईओ रही हैं.

गूगल में काम करना चाहती है सात साल की बच्ची, CEO सुंदर पिचाई ने दिया ये दिलचस्प जवाब

हालांकि, वह 2019 तक कंपनी की चेयरमैन बनी रहेंगी ताकि इससे जुड़ी प्रक्रिया आसानी से निपटाई जा सके. लागुआर्ता को कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर में भी जगह मिली है जो 3 अक्टूबर से प्रभावी होगा. अपने फैसले पर इंद्रा नूई ने कहा, पेप्सीको की अगुवाई करना मेरे जीवन के लिए बहुत बड़े सम्मान की बात रही. मुझे इस बात पर गर्व है कि पिछले 12 साल में हमने न सिर्फ शेयरहोल्डर्स बल्कि सभी संबंधित पक्षों के हित में काम किया.

 

पेप्सीको को बताया जीवन का हिस्सा

इंद्रा नूई ने ट्वीट किया, आज मेरे जीवन का मिश्रित पलों वाला दिन है. पिछले 24 साल से पेप्सीको मेरे जीवन का हिस्सा थी और हमेशा रहेगी. हमने जो भी किया उसपर मुझे गर्व है और भविष्य के लिए रोमांचित हूं. मेरा मानना है कि पेप्सीको के सबसे अच्छे दिन आने बाकी हैं. रामोन लागुआर्ता पेप्सीको की मजबूत स्थिति और कामयाबी को बनाए रखने के लिए सबसे सही व्यक्ति हैं. वह एक मजबूत साझेदार और दोस्त रहे हैं और मुझे भरोसा है कि वह कंपनी को नई ऊंचाई पर ले जाएंगे.

पिछले 22 साल से कंपनी से जुड़े लागुआर्ता सितंबर से अध्यक्ष पद पर हैं. वह वैश्विक परिचालन, कॉरपोरेट रणनीति, सार्वजनिक नीति तथा सरकारी मामलों से संबंधित कामकाज देख रहे हैं. इससे पहले लागुआर्ता यूरोप ओर उप सहारा अफ्रीका खंडों की अगुवाई कर चुके हैं.