Corona Virus Pandemic Effect: कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण इन दिनों तमाम सेक्टर गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं. विमानन कंपनियां भी कोरोना काल में आर्थिक तंगी का सामना कर रही हैं. इस बीच देश की सबसे बड़ी विमानन कंपनियों में से एक इंडिगो ने अपने 10 फीसदी कर्मचारियों को निकालने का फैसला लिया है. कोरोना के चलते बुरी तरह से प्रभावित होने के बाद कंपनी ने यह फैसला लिया है. इंडिगो के सीईओ रणजय दत्ता ने एक बयान में कर्मचारियों की छटनी जानकारी दी. अपने बयान में रणजय दत्ता ने कोरोना काल में कंपनी के आर्थिक संकट की भी जानकारी दी. Also Read - Viral Video: ना दो गज की दूरी- ना मास्क, साड़ी की दुकान पर भारी भीड़, IPS बोले- यहां तो कोरोना भी घुसने से डरेगा...

रणजय दत्ता ने अपने बयान में कहा- ‘कोरोना और लॉकडाउन के कारण कंपनी गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रही है. ऐसे में अपना कारोबार जारी रखने के लिए कंपनी को कुछ त्याग करना होगा. कंपनी ने सभी संभावित परिस्थितियों पर विचार किया, जिसके बाद यह साफ हुआ कि, हमें अपने 10 फीसदी कर्मचारियों को निकालना होगा. कंपनी इन दिनों मुश्किल दौर से गुजर रही है, जिसके चलते यह फैसला लेना पड़ रहा है और अपने कर्मचारियों को निकालना पड़ रहा है.’ Also Read - India Corona Updates: 24 घंटे में देश में कोरोना के 55 हजार से अधिक मामले, एक्टिव केस साढ़े सात लाख के नीचे

बता दें कंपनी में 2019 तक कुल 23,531 कर्मचारी काम कर रहे थे. इंडिगो के सीईओ के मुताबिक- ‘यह पहला मौका है, जब कंपनी को इस तरह का फैसला लेना पड़ रहा है.’ बता दें सिर्फ विमानन में ही नहीं ऑटोमोबाइल और आईटी सेक्टर में भी कोरोना का असर साफ देखने को मिल रहा है. कोरोना के बाद देश में लागू हुए लॉकडाउन के बाद आईटी सेक्टर को भी भारी नुकसान झेलना पड़ रहा है.

कोरोना के कारण आईटी सेक्टर की भी कुछ कंपनियों ने अपने कर्मचारियों की छटनी शुरू कर दी है. आईटी एंप्लॉयी यूनियन की तरफ से दावा किया गया है कि देश की दिग्गज आईटी कंपनियों में से एक Cognizant ने भी देश के अलग-अलग हिस्सों में अपने एंप्लॉयी की छटनी शुरू कर दी है.