भारत के प्रमुख संचार समाधान प्रदाता, भारती एयरटेल ने एक प्रमुख उपलब्धि की घोषणा करते हुए बताया कि यह हैदराबाद शहर में एक वाणिज्यिक नेटवर्क पर लाइव 5जी सेवा का सफलतापूर्वक प्रदर्शन और आयोजन करने वाली देश की पहली टेलीकॉम कंपनी बन गई है.
एयरटेल ने अपने मौजूदा लिबरालाइज्ड स्पेक्ट्रम को 1800 मेगाहट्र्ज बैंड में एनएसए (नॉन स्टैंडअलोन) नेटवर्क तकनीक के माध्यम से किया. अपनी तरह के पहले डायनैमिक स्पेक्ट्रम शेयरिंग का उपयोग करते हुए, एयरटेल ने उसी स्पेक्ट्रम ब्लॉक में 5जी और 4जी को समवर्ती रूप से संचालित किया. इस प्रदर्शन ने सभी डोमेन – रेडियो, कोर और ट्रांसपोर्ट में एयरटेल के नेटवर्क की 5जी तत्परता को सशक्त रूप से मान्य किया है.Also Read - WHO on Covid-19 Pandemic: विश्व आर्थिक मंच की एक बैठक में WHO के आपात स्थिति प्रमुख का बड़ा बयान

मौजूदा टेक्नोलॉजी की तुलना में एयरटेल 5जी स्पीड, दस गुना लेटेंसी और 100गुना कंसीकरंसी देने में सक्षम है. विशेष रूप से, हैदराबाद में, उपयोगकर्ता 5जी फोन पर महज कुछ सेकंडों में एक पूरी फिल्म को डाउनलोड करने में सक्षम थे. इस प्रदर्शन ने कंपनी की तकनीकी क्षमताओं को रेखांकित किया है. हालांकि 5जी अनुभव का पूर्ण प्रभाव, हमारे ग्राहकों के लिए तब उपलब्ध होगा, जब पर्याप्त स्पेक्ट्रम उपलब्ध होगा और सरकार की मंजूरी मिल जाएगी. Also Read - एक्‍टर सिद्धार्थ की मुश्किल बढ़ीं, साइना नेहवाल के खिलाफ ट्वीट के मामले में हैदराबाद में FIR दर्ज

गोपाल विट्ठल, एमडी और सीईओ, भारती एयरटेल ने कहा, मुझे अपने उन इंजीनियरों पर गर्व है जिन्होंने आज हैदराबाद के तकनीकी शहर में इस अविश्वसनीय क्षमता के प्रदर्शन के लिए अथक प्रयास किए हैं. हमारे हर एक निवेश को भविष्य में प्रमाणित किया जाता है क्योंकि हैदराबाद में यह गेम चेंजिंग टेस्ट साबित हुआ है. एयरटेल इस क्षमता को प्रदर्शित करने वाला पहला ऑपरेटर बन गया है और इसी के साथ हमने फिर से दिखा दिया है कि हम भारत में हमेशा से हर जगह भारतीयों को सशक्त बनाने की अपनी खोज में नई तकनीकों का नेतृत्व करने में सबसे आगे रहे हैं. Also Read - भारत में ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने वाला पहला छोटे कद का शख्‍स, ऊंचाई सिर्फ 3 फीट

गोपाल विट्ठल ने यह भी कहा कि हमारा मानना है कि भारत में 5जी इनोवेशन के लिए एक वैश्विक केंद्र बनने की क्षमता है. ऐसा करने के लिए हमें एप्लिकेशन, डिवाइस और नेटवर्क इनोवेशन को एक साथ लाने के लिए इकोसिस्टम की आवश्यकता है. हम अपनी तरफ से योगदान करने के लिए पहले से कहीं ज्यादा तैयार हैं.

(IANS)