फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दरों में बदलाव नहीं करने की घोषणा के बाद डॉलर में अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में कमजोरी दर्ज की गई। दो दिवसीय मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक के बाद फेड ने गुरुवार को ब्याज दर को शून्य के करीब फिलहाल बरकरार रखने का फैसला किया।Also Read - सूडान में सैन्य तख्तापलत, प्रधानमंत्री को सेना ने हिरासत में लिया, पूरे देश में अफरा-तफरी

फेड की बैठक के बाद जारी बयान में कहा गया है, “हाल के वैश्विक वित्तीय और आर्थिक घटनाक्रम आर्थिक गतिविधियों को थोड़ा कुंठित कर सकते हैं और इससे निकट अवधि में महंगाई दर पर नकारात्मक दबाव बन सकता है।” Also Read - आतंकी संगठन अलकायदा का सीनियर लीडर सीरिया में ढेर, अमेरिका ने ड्रोन हमला कर मार गिराया

विश्लेषकों ने कहा कि फेड के अधिकारियों को लग रहा है कि दो फीसदी महंगाई दर की उम्मीद पूरी नहीं हो सकती है और उन्हें दर बढ़ाने के लिए अगले वर्ष तक इंतजार करना पड़ सकता है। Also Read - China-Taiwan conflict: बन रहे युद्ध जैसे हालात, अब अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कह दी ये बड़ी बात

छह प्रमुख मुद्राओं से डॉलर की तुलना करने वाला डॉलर इंडेक्स 0.83 फीसदी कमजोर होकर 94.626 पर बंद हुआ।

गुरुवार को ही श्रम मंत्रालय द्वारा जारी एक आंकड़े के मुताबिक, 12 सितंबर को समाप्त सप्ताह में बेरोजगारों की संख्या 11 हजार घटकर 2,64,000 हो गई।

न्यूयार्क में दोपहर बाद के कारोबार में यूरो का मूल्य बढ़कर 1.1405 डॉलर हो गया।

पाउंड का मूल्य बढ़कर 1.5626 डॉलर हो गया, जो एक दिन पहले 1.5495 डॉलर था।

आस्ट्रेलियाई डॉलर मजबूत होकर 0.727 डॉलर हो गया, जो एक दिन पहले 0.719 डॉलर था।

येन में मजबूती आई और यह प्रति डॉलर 120.16 येन दर्ज किया गया, जो एक दिन पहले 120.62 येन था।

डॉलर में स्विस फ्रैंक के मुकाबले कमजोरी आई और इसका मूल्य 0.9618 स्विस फ्रैंक रहा, जो एक दिन पहले 0.9695 स्विस फ्रैंक था।

डॉलर के मुकाबले कनाडाई डॉलर में मजबूती आई और यह प्रति डॉलर 1.3086 पर दर्ज किया गया, जो एक दिन पहले 1.3176 पर था।