नई दिल्ली: फॉरेंसिक ऑडिट की वजह संकट में फंसे आम्रपाली समूह के कई नये राज सामने आ रहे है. इस काम के लिए नियुक्त आडिटरों ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को बताया कि 500 से अधिक लोगों के नाम पर महंगे-महंगे फ्लैटों की बुकिंग मात्र एक रुपए, पांच रुपए या 11 रुपए प्रति वर्गफुट के भाव पर की गई थी. ऑडिट में यह भी सामने आया है कि ड्राइवरों, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों और ऑफिस बॉय का काम करने वालों के नाम पर 23 कंपनियां बनाई गईं थीं. ये कंपनियां आम्रपाली के गठबंध का हिस्सा थीं और घर खरीदारों के पैसे को इधर उधर करने के लिए इनको आगे किया गया था.

655 फ्लैट की बेनामी बुकिंग
दो फॉरेंसिक आडिटरों ने शीर्ष अदालत को बताया कि उनके सामने 655 ऐसे लोगों के नाम आए हैं, जिनके नाम पर फ्लैट की बेनामी बुकिंग की गयीं. उनके 122 पतों पर वैसा कोई व्यक्ति नहीं मिला. फॉरेंसिक आडिटरों की अंतरिम रिपोर्ट न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति यू यू ललित की पीठ को सौंपी गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) ने चंदर वाधवा ने पिछले साल 26 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पेश होने से सिर्फ तीन दिन पहले 4.75 करोड़ रुपए अज्ञात लोगों को स्थानांतरित किए.

4.75 करोड़ रुपए अज्ञात लोगों को स्थानांतरित किए
फॉरेंसिक आडिटर पवन कुमार अग्रवाल ने पीठ से कहा, मार्च, 2018 तक वाधवा के खाते में 12 करोड़ रुपए थे. उसके बाद उन्होंने एक करोड़ रुपए अपनी पत्नी के नाम स्थानांतरित किए. 26 अक्टूबर को अदालत के समक्ष पहली बार पेश होने से तीन दिन पहले उन्होंने 4.75 करोड़ रुपए अज्ञात लोगों को स्थानांतरित किए.

वाधवा की खिंचाई की और अवमानना की चेतावनी दी
अग्रवाल की इस बात के बाद पीठ ने वाधवा की खिंचाई की और उनके खिलाफ अवमानना की चेतावनी दी. वाधवा उस समय न्यायालय में मौजूद थे. अदालन ने कहा, ” आप न्याय की राह में अड़गा डाल रहे हैं. आप को अच्छी तरह मालूम था कि आपस से सवाल किए जाएंगे. इस लिए आपने पैसा दूसरी जगह भेज दिया…आप सात दिन में वह पैसा वापस लाइए. आपको 23 अक्टूबर 2018 के बाद धन अंतरित करने का कोई कोई काम नहीं था. हम आप के खिलाफ अवमाना की कार्रवाई कर सकते हैं.

200 करोड़ रुपए के बोगस बिल और वाउचर
पीठ ने फॉरेंसिक आडिटरों से आयकर विभाग के उस आदेश को पेश करने को कहा. जिसमें विभाग ने 2013-14 में अपनी छापेमारी और जब्ती कार्रवाई में 200 करोड़ रुपए के बोगस बिल और वाउचर जब्त किए थे. साथ ही उस समय आम्रपाली समूह के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अनिल कुमार शर्मा से जो एक करोड़ रुपए तथा निदेशक शिव प्रिया से एक करोड़ रुपए मिले थे.
एक अन्य फॉरेंसिक आडिटर रवि भाटिया ने बताया कि आम्रपाली समूह ने आयकर विभाग के आदेश को चुनौती दी थी, जिसने उस पैराग्राफ को हटा दिया जिसमें कच्चे माल खरीद के लिए 200 करोड़ रुपए के बोगस बिल और वाउचरों का जिक्र था.

जेपी मॉर्गन रीयल एस्टेट फंड और आम्रपाली समूह ने कानून तोड़ा
पीठ ने आडिटरों से कहा, आप आयकर विभाग और अपीलीय प्राधिकरण के दोनों आर्डर दिखाए. हम उन्हें देखना चाहते हैं. शीर्ष अदालत ने बहुराष्ट्रीय कंपनी जेपी मॉर्गन रीयल एस्टेट को भी इस मामले में आड़े हाथ लेते लिया. इस कंपनी ने 2010 में आम्रपाली जोडिएक में उसके शेयरों की खरीद के जरिये 85 करोड़ रुपए का निवेश किया था. बाद में इन शेयरों को रीयल्टी कंपनी की सहायक कंपनियों को बेच दिया गया था. फॉरेंसिक आडिटरों ने कहा कि जेपी मॉर्गन रीयल एस्टेट फंड और आम्रपाली समूह के बीच शेयर खरीद करार कानून के प्रावधानों का उल्लंघन था.

संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो एसएफआईओ देखेगा मामला
इस पर पीठ ने जेपी मॉर्गन और उसके भारतीय प्रभारी के वकील से कहा कि कंपनी को कई चीजें स्पष्ट करने की जरूरत है. उन्हें अपना जवाब एक सप्ताह में अपना जवाब देना है. पीठ ने चेताया कि यदि न्यायालय को इन सवालों का संतोषजनक जवाब नहीं मिलता है तो गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय (एसएफआईओ) इस मामले को देखेगा.

लाखों खरीदारों को राहत देने के लिए सुझाव मांगे
बिना पंजीकरण आम्रपाली समूह की विभिन्न परियोजनाओं के लाखों खरीदारों को राहत देने के लिए पीठ ने पक्षों और नोएडा और ग्रेटर नोएडा प्राधिकरणों से उनके फ्लैटों के पंजीकरण के लिए कानूनी सुझाव मांगे हैं. इस मामले की सुनवाई की अगली तारीख 24 जनवरी तय की गई है.

3,000 करोड़ रुपए इधर-उधर करने की जांच
उच्चतम न्यायालय ने 12 दिसंबर को दो फॉरेंसिक आडिटरों को करीब 3,000 करोड़ रुपए इधर उधर करने की जांच को कहा था. यह फ्लैट खरीदारों का पैसा था जो आम्रपाली समूह ने कथित रूप से अपनी सहयोगी कंपनियों के शेयर खरीदने तथा संपत्ति बनाने पर खर्च किया था.