नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आयकर विवरण की ई-फाइलिंग, जांच-पड़ताल और टैक्स रिफंड की पूरी प्रक्रिया को और त्वरित तथा सुगम बनाने के लिए अगली पीढ़ी की प्रणाली (next-generation system) लागू करने की एक योजना को बुधवार को मंजूरी दी है. इस 4,241.97 करोड़ रुपए की परियोजना का काम दिग्गज आईटी कंपनी इन्फोसिस (Infosys) को देने का निर्णय किया गया है. इससे रिटर्न की जांच पड़ताल का समय 63 दिन से घटकर एक दिन रह जाएगा और साथ ही रिफंड की प्रक्रिया को भी तेज किया जा सकेगा. केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में आयकर विभाग की एकीकृत ई-फाइलिंग एंड सेंट्रलाइज्ड प्रोसेसिंग सेंटर (CPC) 2.0 परियोजना के लिए 4,241.97 करोड़ रुपए के व्यय को मंजूरी दी गई. Also Read - PM Kisan Samman Nidhi Yojana: पीएम किसान पोर्टल से हटाए गए 2 करोड़ से अधिक किसान, कहीं आप भी तो नहीं शामिल, देखें पूरी लिस्ट

Also Read - पंजाब के किसानों ने मोदी सरकार को घुटनों पर ला दिया: शिवसेना

इनकम टैक्स छूट की सीमा बढ़ाकर 5 लाख कर सकती है मोदी सरकार! Also Read - Income Tax Refund: इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने अभी तक 59 लाख से अधिक करदाताओं को जारी किया 1.40 लाख करोड़ का रिफंड

केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसले की जानकारी देते हुए गोयल ने संवाददाताओं से कहा कि अभी आईटीआर की जांच पड़ताल में 63 दिन का समय लगता है. इस परियोजना के क्रियान्वयन के बाद यह घटकर एक दिन रह जाएगा. गोयल ने बताया कि इस नई प्रणाली को करीब डेढ़ साल में तैयार किया जाएगा. इसका तीन महीने तक परीक्षण किया जाएगा और उसके बाद इसे लागू किया जाएगा. उन्होंने बताया कि निविदा प्रक्रिया के बाद इन्फोसिस को इस परियोजना के क्रियान्वयन के लिए चुना गया है. उन्होंने कहा कि मौजूदा प्रणाली सफल रही है और नई परियोजना अधिक कर अनुकूल होगी. सीपीसी परियोजनाओं के तहत आयकर विभाग में समस्त प्रक्रियाओं का एंड टु एंड ऑटोमेशन किया जाएगा. इसके लिए विभिन्न नवोन्मेषी तरीकों का इस्तेमाल किया जाएगा.

मंत्रिमंडल ने मौजूदा सीपीसी-आईटीआर 1.0 परियोजना के लिए 2018-19 तक 1,482.44 करोड़ रुपए की एकीकृत लागत को भी मंजूरी दी है. पीयूष गोयल ने बताया कि चालू वित्त वर्ष में अभी तक 1.83 लाख करोड़ रुपए के कर रिफंड जारी किए गए हैं. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इस फैसले से जहां पारदर्शिता और जवाबदेही सुनिश्चित होगी, वहीं रिटर्न की तेजी से जांच हो सकेगी और रिफंड प्रक्रिया भी तेज होगी. साथ ही इससे करदाताओं को जागरूक और शिक्षित करने में भी मदद मिलेगी. बयान में कहा गया है कि इससे जहां करदाताओं के लिए प्रक्रियाओं को तेज किया जा सकेगा वहीं स्वैच्छिक कर अनुपालन को भी प्रोत्साहन मिलेगा.