भारत में अति धनाढ्य मुकेश अंबानी, गौतम अडाणी, पूनावाला तथा कई अन्य की शुद्ध परिसंपत्ति में उछाल के बावजूद महामारी के कारण बुरी तरह प्रभावित वर्ष 2020 में देश में अति धनाढ्य लोगों की कुल संपत्ति एक साल पहले के मुकाबले 4.4 प्रतिशत घटकर 12,830 अरब डालर रही। यह गिरावट रुपये की विनिमय दर गिरने से आई है.Also Read - केंद्र ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के लिए राज्यों को 1828 करोड़ रुपये दिए

क्रेडिट सूईस रिसर्च इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के मुताबिक रुपये की विनिमय दर में गिरावट के कारण भारत में डालर के हिसाब से दस लाख डालर की सम्पत्ति वाले धनी लोगों की संख्या 2019 के 7,64,000 से घटकर 6,98,000 रह गई. इस दौरान उनकी कुल संपत्ति 4.4 प्रतिशत अथवा 594 अरब डालर घटकर 12,833 अरब डालर रही. Also Read - PM Awas Yojana 2021: पीएम आवास योजना में मिल सकती है एक और बड़ी सुविधा, जानिए- कैसे मिलेगा लाभ?

दुनियाभर के धनाढ्य व्यक्तियों भारत के लोग मात्र एक प्रतिशत हैं। कोविड प्रभावित आलोच्य वर्ष में दुनियाभर में इनकी संख्या 52 लाख बढ़कर 5.61 करोड़ तक पहुंच गई. हालांकि, रिपोर्ट में यह उम्मीद की गई है कि 2025 तक भारत में ऐसे करोड़पतियों की संख्या 81.8 प्रतिशत बढ़कर 13 लाख तक पहुंच जायेगी. Also Read - Digital Payment Facility: महामारी में बढ़ा डिजिटल भुगतान, आरबीआई इंडेक्स में 30 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज

प्रत्येक भारतीय वयस्क की संपत्ति 2020 में औसतन 14,252 डालर रही है. इसमें 2000 से लेकर 2020 के दौरान सालाना 8.8 प्रतिशत की दर से वृद्धि हुई जबकि वैश्विक औसत इस दौरान 4.8 प्रतिशत रहा. देश में 4,320 अति धनाढ्य हैं जिनकी शुद्ध परिसंपत्ति पांच करोड़ डालर से अधिक है.

हुरुन इंडिया की अमीरों की सूची के मुताबिक रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने 2020 में प्रति घंटा 90 करोड़ रुपये अथवा पूरे साल में 2,77,700 करोड़ रुपये कमाये जिससे उनकी कुल संपत्ति 6,58,400 करोड़ रुपये पर पहुंच गई.

वहीं ब्लूमबर्ग की गणना के मुताबिक अदाणी समूह के चेयरमैन गौतम अदाणी की संपत्ति इस दौरान 16.2 अरब डालर बढ़कर मध्य मई तक 67.6 अरब डालर पर पहुंच गयी.

क्रेडिट सुईस की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2020 की पहली तिमाही में कोरोना के कारण बाजार में आई जबर्दस्त गिरावट से 17,500 अरब डालर गंवाने के बाद बाजार में सुधार से दुनिया के अमीरों की वैश्विक संपत्ति 28,700 अरब डालर बढ़कर 4,18,300 अरब डालर पर पहुंच गई। वहीं दुनियाभर में करोड़पतियों की संख्या 52 लाख बढ़कर 5 करोड़ 61 लाख हो गई.

इस वृद्धि के परिणामस्वरूप एक वयस्क को दुनिया के शीर्ष एक प्रतिशत धनी लोगों में जगह बनाने के लिये 10 लाख डालर की सम्पत्ति की जरूरत होगी जबकि 2019 में यह आंकड़ा 9,88,103 डालर पर था.

वर्ष 2020 में पहली बार दुनिया के वयस्कों में एक प्रतिशत से अधिक डालर के हिसाब से दसलखिये बन गये। दुनिया के धनी देशों में उत्तरी अमेरिका में वर्ष के दौरान 12,400 अरब डालर की संपत्ति जोड़ी गई, वहीं यूरोप में 9,200 अरब डालर, चीन में 4,200 अरब डालर और एशिया प्रशांत क्षेत्र में (चीन और भारत को छोड़कर) 4,700 अरब डालर की संपत्ति जोड़ी गई.

(भाषा)