नई दिल्ली: विश्व में सबसे तेज गति से बढ़ रही अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में भारत के साथ आर्थिक और निवेश संबंधी संधियों को सुदृढ़ करने की दिशा में ऑस्ट्रेलिया की कोशिशों के बीच 100 से अधिक संख्या में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियां भारत आ रही हैं. ऑस्ट्रेलिया के व्यापार, पर्यटन एवं निवेश मंत्री, साइमन बर्मिंघम ने बताया कि इस मिशन का उद्देश्य शिक्षा, पर्यटन, स्वास्थ्य, संसाधन, मूलभूत सुविधाओं, तथा खाद्यान्न, शराब और सौंदर्य के उत्कृष्ट उत्पादों पर फोकस के साथ ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों के लिए नए दरवाजे खोलना है. Also Read - बिहार के लीची किसानों की बदलेगी किस्मत, कोका कोला 11 हजार करोड़ रुपये करेगी निवेश

मंत्री बर्मिंघम ने कहा, “हम अगले 20 वर्षो तक भारत की अर्थव्यवस्था के विकास के सम्मुख और केंद्र में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों की उपस्थिति सुनिश्चित करना चाहते हैं.” उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था का स्वरुप तेजी से बदल रहा है. अनुमान है कि वर्ष 2035 के आते-आते यह विश्व की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. इस स्थिति में विभिन्न निर्यात क्षेत्रों में ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों के लिए भारी संभावना दिखाई दे रही है. Also Read - 5,000 अरब डालर की अर्थव्यवस्था के लिए सरकार बड़ा कदम, 102 लाख करोड़ रु. के प्रोजेक्‍ट्स की तैयारी

भारत का महत्वाकांक्षी मध्य वर्ग भी- जिसकी संख्या ऑस्ट्रेलिया की आबादी से 12 गुना अधिक है- तेजी से बढ़ रहा है और अब समय आ गया है कि ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों को जगह पर लाया जाए ताकि वे भारतीय कंपनियों, सप्लाई चेन्स और निवेश सहयोगियों के साथ दीर्घकालीन सम्बन्ध विकसित कर सकें. उन्होंने कहा कि ऑस्ट्रेलिया के उत्कृष्ट उत्पाद, हमारी उच्च कोटि की शिक्षा व्यवस्था और पर्यटन सेवाएं, तथा हमारी नवोन्मेषी मूलभूत संरचनाएं, ऊर्जा एवं कृषिजन्य व्यापार समाधान भारत के भविष्य की जरूरतें पूरी करने को बिलकुल तैयार हैं. Also Read - सीतारमण ने दुनिया के निवेशकों को दिया भरोसा, निवेश के लिए भारत से अच्छी कोई जगह नहीं

उल्लेखनीय है कि शिक्षा, पर्यटन, ऊर्जा और संसाधनों, तथा खाद्य और कृषिजन्य व्यापार जैसे प्राथमिकता के क्षेत्रों की ऑस्ट्रेलियाई कंपनियों का शिष्ट मंडल 24 से 28 के बीच नई दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरु और चेन्नई का दौरा करेगा. यह दौरा ऑस्ट्रेड के ऑस्ट्रेलिया-इंडिया बिजनस एक्सचेंज, जो दोनों देश के बीच व्यापार, निवेश और पर्यटन कारोबार की आयोजनों का बहुमासिक कार्यक्रम है, का हिस्सा है.