सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी (Azim Premji) ने वित्त वर्ष 2020-21 में कुल 9,713 करोड़ रुपये यानी 27 करोड़ रुपये प्रतिदिन का दान दिया. इसके साथ उन्होंने परमार्थ कार्य करने वाले भारतीयों के बीच अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा. एडेलगिव हुरुन इंडिया फिलैंथ्रोपी लिस्ट 2021 के अनुसार, महामारी से प्रभावित वर्ष के दौरान प्रेमजी ने अपने दान में लगभग एक चौथाई की वृद्धि की. उनके बाद एचसीएल के शिव नाडर दूसरे स्थान पर थे, जिन्होंने परमार्थ कार्यों के लिए 1,263 करोड़ रुपये का दान दिया.Also Read - Wipro Announces Salary Hike: साल में दूसरी बार अपने 80% कर्मचारियों की सैलरी बढ़ाएगी विप्रो, जानें कितनी होगी बढ़ोतरी

एशिया के सबसे धनी व्यक्ति और रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी 577 करोड़ रुपये के योगदान के साथ सूची में तीसरे स्थान पर रहे और कुमार मंगलम बिड़ला ने 377 करोड़ रुपये के साथ चौथा स्थान हासिल किया. देश के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति और अडाणी ग्रुप के प्रमुख गौतम अडाणी आपदा राहत के लिए 130 करोड़ रुपये का दान करने के साथ दानदाताओं की सूची में आठवें स्थान पर हैं. Also Read - Indian IT Sector: 30 लाख नौकरियों के नुकसान की रिपोर्ट गलत, FY21 में IT सेक्टर ने 1.38 लाख लोगों को काम पर रखा: नैसकॉम

इन्फोसिस के सह-संस्थापक नंदन नीलेकणी की रैंकिंग में भी सुधार हुआ और 183 करोड़ रुपये के दान के साथ उन्होंने सूची में पांचवां स्थान हासिल किया. शीर्ष दस दानदाताओं में हिंदुजा परिवार, बजाज परिवार, अनिल अग्रवाल और बर्मन परिवार शामिल हैं. Also Read - कोरोना काल में इन उद्योगपतियों ने दिया हजारों करोड़ का दान, जानिए- किस बिजनेसमैन ने दिया मुकेश अंबानी से 17 गुना ज्यादा

(इनपुट: भाषा)