नई दिल्ली: देश के पब्‍लिक सेक्‍टर की बैंकों के कर्मचारियों Bank employees की दो दिन देशव्यापी हड़ताल 2-day nationwide bank strike के चलते बैंकों में नकदी निकासी और जमा समेत विभिन्न सेवाएं प्रभावित हुईं. शुरुआती खबरों के मुताबिक, देश के कई हिस्सों में सार्वजनिक बैंकों की शाखाएं बंद हैं. हालांकि, आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक जैसे प्राइवेट सेक्‍टर के बैंक खुले हैं. बता दें बैंक रविवार समेत लगातार तीन दिन बंद रहेंगे. सरकारी बैंकों की हड़ताल ऐसे समय हो रही है जब शुक्रवार से बजट सत्र शुरू हो रहा है और शनिवार को वित्त वर्ष 2020-21
का बजट पेश किया जाना है.

बैंक कर्मिचारी यूनियनों का दावा है कि सार्वजनिक बैंकों और निजी क्षेत्र के कुछ बैंकों के करीब 10 लाख कर्मचारी और अधिकारी हड़ताल में भाग ले रहे हैं. शुरुआती खबरों के मुताबिक, देश के कई हिस्सों में सार्वजनिक बैंकों की शाखाएं बंद हैं.

ये हैं हड़ताल की खास वजह
-बैंक कर्मचारियों के संगठन वेतन वृद्धि की मांग को लेकर 31 जनवरी से दो दिन की हड़ताल पर हैं
-बैंक कर्मचारियों के वेतन संशोधन का मामला नवंबर 2017 से लंबित है.

एसबीआई ने दी थी हड़ताल के चलते बैंकिग सर्विस प्रभावित होने की पूर्व सूचना
भारतीय स्टेट बैंक समेत विभिन्न बैंकों ने अपने ग्राहकों को पहले ही सूचित कर दिया था कि हड़ताल की वजह से बैंकिंग सेवाओं पर कुछ असर पड़ सकता है.

क्‍या असर पड़ा
– बैंककर्मियों की हड़ताल से नकदी जमा और निकासी, चेक क्लीरेंस और कर्ज वितरण जैसी सेवाएं प्रभावित रहीं
– 9 बैंकों से संबंधित कर्मचारी यूनियनों के बैंकर्मी हलड़ताल पर

इन संगठनों ने बुलाई हड़ताल
– यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (यूएफबीयू) United Forum of Bank Unions (UFBU) ने इस हड़ताल का आह्वान किया है
– यह ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कॉन्फेडरेशन (एआईबीओसी), ऑल इंडिया बैंक एम्प्लॉयज एसोसिएशन (एआईबीईए) और नेशनल ऑर्गनाइजेशन ऑफ बैंक वर्कर्स समेत नौ कर्मचारी संगठनों का निकाय है.

एमपी में 95% बैंक शाखाओं में कामकाज प्रभावित होने का दावा
– वेतन वृद्धि की मांग को लेकर बैंक कर्मियों की देश भर में शुक्रवार से शुरू हुई दो दिवसीय हड़ताल
– पहले दिन मध्यप्रदेश में बड़े पैमाने पर बैंकिंग सेवाएं प्रभावित हुईं
-बैंक शाखाओं में धन जमा करने और निकालने के साथ चेक निपटान, एफडी योजनाओं का नवीनीकरण, सरकारी खजाने से जुड़े काम और अन्य नियमित कार्य प्रभावित हो रहे हैं
– मध्यप्रदेश बैंक एम्प्लॉयीज एसोसिएशन (एमपीबीईए) के सचिव एमके शुक्ला ने कहा, “हड़ताल के कारण सूबे में सरकारी बैंकों, निजी क्षेत्र के पुराने वाणिज्यिक बैंकों और अन्य क्षेत्रों के बैंकों की कुल 7,428 शाखाओं में से लगभग 7,000 शाखाओं में काम ठप है”
– एमपीबीईए के मुताबिक, एमपी में बैंक हड़ताल में 32,000 में से 31,000 अधिकारी-कर्मचारी हिस्सा ले रहे हैं
– दावा: हड़ताल से राज्य के करीब 9,700 एटीएम में नकदी डालने का काम भी प्रभावित हो रहा है
– राज्य में आईसीआईसीआई बैंक और एक्सिस बैंक जैसे निजी क्षेत्र के कुछेक बैंकों की शाखाएं खुली हैं