नई दिल्ली: एनडीए के घटक दल शिवसेना को 2019 के लोकसभा चुनाव साथ लड़ने के लिए राजी करने की कोशिश जारी है. शिवसेना की ओर से बीजेपी की तीखी आलोचना के बाद भी पार्टी को लगता है कि लोकसभा चुनाव में शिवसेना उसका साथ देगी. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने मंगलवार को कहा कि केंद्र और महाराष्ट्र में बीजेपी नीत सरकारों की लगातार आलोचनाओं के बावजूद शिवसेना 2019 के चुनाव में हिन्दुत्व के मुद्दे पर भाजपा के साथ गठबंधन करेगी. उन्होंने अयोध्या में एक भव्य राम मंदिर निर्माण का भी पुरजोर समर्थन किया. उन्होंने कहा कि जिस किसी को भी राजनीति की सामान्य समझ है वो जानते हैं कि भाजपा और शिवसेना चुनाव जीतने के लिए एक साथ लड़ेंगे.Also Read - PM मोदी बोले- इन लोगों की पहचान समाजवादी नहीं, परिवारवादी की बन गई, सिर्फ अपने परिवार का भला किया

दूसरी ओर शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में ‘देरी’ को लेकर सवाल किया. मराठवाडा क्षेत्र में अपनी पार्टी के प्रखंड स्तरीय कार्यकर्ताओं की एक बैठक को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा कि वह 25 नवंबर को उत्तर प्रदेश का दौरा करेंगे और मंदिर मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सवाल करेंगे. उन्होंने सवाल किया, ‘आप राम मंदिर निर्माण का भरोसा देकर सत्ता में आए. आपने हिन्दुत्व के मुद्दे पर लोगों को वोट देने को कहा. क्या हुआ? आप मंदिर का निर्माण कब करने जा रहे हैं?’ Also Read - Punjab Polls: कांग्रेस से जुदा हुईं अमरिंदर की राहें! पंजाब के पूर्व CM का नई पार्टी बनाने का ऐलान; BJP से इस 'शर्त' पर गठबंधन

इससे पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने दावा किया कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को ‘किसी भी राजनीतिक गठबंधन की जरूरत नहीं’ है.उद्धव ने रविवार को शिरडी और अहमदनगर में सार्वजनिक सभाएं की. उन्होंने कहा, ‘ जब अटल जी (अटल बिहारी वाजपेयी) की सरकार केंद्र में थी तो उन्हें कई राजनीतिक मित्रों का समर्थन प्राप्त था लेकिन मौजूदा सरकार को किसी भी राजनीतिक गठबंधन की जरूरत नहीं है. उद्धव ने लोगों से प्रधानमंत्री मोदी द्वारा किए जा रहे दावों का सच तलाशने की अपील की. Also Read - कैप्‍टन अमरिंदर सिंह जल्‍द अपनी पार्टी की घोषणा करेंगे, BJP समेत इन दलों से कर सकते हैं गठबंधन

उन्होंने कहा, मैं अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से भाजपा नीत केंद्र सरकार की नीतियों से प्रभावित लोगों का पता लगाने के लिए कह रहा हूं. आप अपनी जानकारियों के साथ पीएम मोदी की एक तस्वीर लगाएं और लोगों को तय करने दें. शिवसेना प्रमुख ने ‘झूठ फैलाने’ को लेकर भाजपा पर निशाना साधा और कहा कि वह चुनावी फायदे की खातिर अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का मुद्दा उठाती है. शिरडी में एक रैली को संबोधित करते हुए उद्धव ने भाजपा से मतभेदों के बावजूद केंद्र एवं महाराष्ट्र में भाजपा की अगुवाई वाली सरकारों में शिवसेना के साझेदार बने रहने पर अपना पक्ष रखा.

उन्होंने कहा, ‘मैं ऐसी चीजें कराने के लिए सत्ता में हूं जिससे लोगों को फायदा हो. मैं उनमें से नहीं हूं जो सत्ता के सामने अपनी दुम हिलाए. मैं सत्ता का भूखा नहीं हूं.’ संभवत: भाजपा पर निशाना साधते हुए उद्धव ने कहा कि झूठ फैलाकर सत्ता हासिल करना ‘देशद्रोह’ है. महाराष्ट्र की देवेंद्र फडणवीस सरकार पर निशाना साधते हुए उद्धव ने कहा कि राज्य सरकार की किसान कर्ज माफी योजना भी धोखा और छलावा साबित हुई. उद्धव ने पुष्टि की कि शिरडी से लोकसभा सदस्य सदाशिव लोखंडे 2019 के लोकसभा चुनाव में भी पार्टी के उम्मीदवार होंगे.

(इनपुट-भाषा)