Air India Booking: एयर इंडिया ने अपने उन यात्रियों को बड़ी राहत दी है जिनकी फ्लाइट लॉकडाउन के चलते कैंसिल हो गई थीं. एयर इंडिया ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि जिन लोगों ने 23 मार्च से लेकर 31 मई 2020 के बीच में टिकट किया था और उनकी फ्लाइट कैंसल हो गई तो वे अब दोबारा टिकट ले सकते हैं. एयरलाइन ने अपने बयान में कहा, “जिन लोगों ने 23 मार्च से लेकर 31 मई 2020 के बीच में टिकट किया था और उनकी फ्लाइट कैंसल हो गई, वे 25 मई से 24 अगस्त के बीच दोबारा टिकट ले सकते हैं. उन्हें कोई अतिरिक्त चार्ज नहीं देना होगा.”Also Read - Air India: एयर इंडिया को मिलेंगे 140 से ज्यादा विमान, टाटा सन्स के पास कोई अचल संपत्ति नहीं रहेगी

एयरलाइन ने आगे कहा कि यदि किसी यात्री को अपना रूट बदलने की आवश्यकता है, तो केवल री-रूटिंग चार्ज नहीं लिया जाएगा. हालांकि उनसे किराए में आए अंतर के पैसे चार्ज किए जाएंगे. अगर किसी यात्री को अपना रूट बदलना या तारीख बदलनी है तो वह एयर इंडिया कॉल सेंटर, एआई बुकिंग ऑफिस और अधिकृत एआई ट्रैवल एजेंटों के माध्यम से कर सकता है. Also Read - 68 साल बाद Air India पर हुआ टाटा संस का अधिकार, चेयरमैन ने PM मोदी से मुलाकात की

Also Read - Tata Group की हुई Air India, DIPAM के सचिव ने की पुष्टि; टाटा सन्स के चेयरमैन ने जताई खुशी

बता दें कि देश भर में घरेलू उड़ान सेवा शुरू होने के दूसरे दिन आंध्र प्रदेश में भी मंगलवार को घरेलू उड़ानों का संचालन शुरू हो गया. इस दौरान शाम पांच बजे तक देश भर के विभिन्न हवाई अड्डों से 325 उड़ानें रवाना हुयीं जबकि 283 उड़ान अपने गंतव्यों तक पहुंची. हालांकि कई उड़ानें रद्द भी हुयीं जिससे यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा. अब, पश्चिम बंगाल को छोड़कर पूरे देश में यात्री सेवाएं शुरु हो गयी हैं. मुंबई, चेन्नई और हैदराबाद जैसे कई हवाई अड्डों पर उनकी क्षमता से काफी उड़ानों का संचालन हुआ.

नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को कहा, ‘‘घरेलू नागरिक उड्डयन आपरेशन का सुचारू संचालन. हमारे हवाई अड्डों से दूसरे दिन 26 मई को शाम पांच बजे तक 325 उड़ानें रवाना हुयीं और 283 उड़ानें पहुंची जिनमें 41,673 यात्रियों ने यात्रा की.’’

कोविड-19 महामारी के कारण करीब दो महीनों तक बंद रहने के बाद भारत में सोमवार से घरेलू उड़ानों का संचालन शुरू हुआ और पहले दिन 428 उड़ानों से 30,550 यात्रियों को उनकी मंजिलों तक पहुंचाया गया. हालांकि करीब 630 उड़ानें रद्द भी हुईं.