नई दिल्लीः सरकार ने पेट्रोल और डीजल पर तीन रुपये प्रति लीटर की दर से उत्पाद शुल्क बढ़ा दिया है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल की कीमतों में गिरावट से लाभ लेने के प्रयासों के तहत सरकार ने शनिवार को यह कदम उठाया है. एक आधिकारिक अधिसूचना में कहा गया है कि पेट्रोल पर विशेष उत्पाद शुल्क प्रति लीटर दो रुपये बढ़ाकर आठ रुपये कर दिया है तो वहीं डीजल पर यह शुल्क दो रुपये बढ़कर अब चार रुपये प्रति लीटर हो गया है. Also Read - Petrol Diesel Price Today: 2 अप्रैल को भी पेट्रोल-डीजल की कीमतों में नहीं हुआ कोई बदलाव, स्थिर रहीं कीमतें

इसके अलावा पेट्रोल और डीजल पर लगने वाला सड़क उपकर भी एक-एक रुपये प्रति लीटर बढ़ाकर 10 रुपये कर दिया गया है. उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी का नतीजा सामान्य तौर पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि के रूप में सामने आता है लेकिन यह अंतरराष्ट्रीय दरों में गिरावट के हिसाब से समायोजित हो जाएगी और कीमतों में इजाफा नहीं होगा उत्पाद शुल्क बढ़ाने के बाद सरकार का भी यही कहना है कि इससे जनता पर किसी भी प्रकार का बोझ नहीं आएगा . Also Read - Petrol Diesel Price Today, 31 March: पेट्रोल-डीजल की कीमतों ने बनाया रिकॉर्ड, 14वें दिन भी स्थिर रहीं कीमतें

सरकार का यह फैसला ऐसे समय पर आया है जब पूरी दुनिया में कच्चे तेल के दाम घट रहे हैं. माना जा रहा है कि कोरोनावायरस की वजह से दुनिया भर में बदले आर्थिक हालत के कारण क्रूड ऑयल की कीमतों में गिरावट दर्ज की जा रही है. विश्लेषकों का मानना है कि आगे आने वाले दिनों में क्रूड आयल के दामों में और गिरावट आ सकती है. Also Read - Petrol Diesel Price Today: 13 वें दिन भी नहीं बढ़ी पेट्रोल-डीजल की कीमतें, जानिए क्या है आज का दाम