कोरोना वायरस की मार झेल रही अर्थव्यवस्था में जान फूंकने के लिए भारत सरकार के बाद भारतीय रिजर्व बैंक ने भी अहम घोषणाए की हैं. भारत सरकार की ओर से 1.70 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा के अगले दिन शुक्रवार को आरबीआई ने रेपो दर में 0.75 प्रतिशत की कटौती की. अब रेपो दर 4.45 प्रतिश्त पर आ गई है. रिवर्स रेपो दर में 0.90 प्रतिश्त की कमी की गई है. Also Read - कोरोना का कहर, सरकार और RBI के प्रोत्साहन के बावजूद झेलनी पड़ी आर्थिक गिरावट

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने एक प्रेस कांफ्रेंस में इसकी घोषणा की. आरबीआई के इस कदम से जहां आपकी लोन की ईएमआई कम हो सकती है वहीं बैंकों को भी राहत मिलेगी. Also Read - PM मोदी ने कहा, RBI की घोषणाएं अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाएंगी

उन्होंने कहा कि रेपो दर में कमी से कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव से निपटने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि कच्चे तेल के दाम और मांग में कमी से मुख्य (कोर) मुद्रास्फीति कम होगी. गर्वनर ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा और इससे वैश्विक मंदी की आंशका बन गई है.