नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को स्पष्ट किया कि एक अप्रैल, 2020 से देश में भारत स्टेज-4 (बीएस-4) श्रेणी के वाहनों की बिक्री नहीं होगी. भारत स्टेज उत्सर्जन मानक वे मानक हैं जो सरकार ने मोटर वाहनों से पर्यावरण में होने वाले प्रदूषक तत्वों के नियमन के लिए बनाए हैं. बता दें कि बीएस-4 नियम अप्रैल 2017 से देशभर में लागू हैं. Also Read - SC का बड़ा आदेश- NIA, CBI, ED समेत देश के सभी पुलिस स्टेशनों और पूछताछ वाले कमरों में लगाएं जाएं CCTV

 बीएस-6 के अनुकूल वाहनों की ही बिक्री की जा सकेगी
भारत स्टेज-6 (या बीएस-6) उत्सर्जन नियम एक अप्रैल, 2020 से देशभर में प्रभावी हो जाएंगे. जस्‍टसि मदन बी लोकुर की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ ने स्पष्ट किया कि एक अप्रैल, 2020 से पूरे देश में बीएस-6 के अनुकूल वाहनों की ही बिक्री की जा सकेगी. पीठ ने कहा कि और अधिक स्वच्छ ईंधन की ओर बढ़ना वक्त की जरूरत है. Also Read - Bungalow Demolition Case: कंगना रनौत ने सुप्रीम कोर्ट में BMC की चुनौती के खिलाफ दायर की कैव‍ियट

बीएस-6 मानक वाले वाहनों की बिक्री पर व‍िचार 
केंद्र ने 2016 में घोषणा की थी कि देश में बीएस-5 नियमों को अपनाए बगैर ही 2020 तक बीएस-6 नियमों को लागू कर दिया जाएगा. शीर्ष अदालत इस सवाल पर विचार कर रही थी कि क्या आटोमोबाइल निर्माताओं को एक अप्रैल, 2020 के बाद बीएस-6 मानकों के अनुरूप नहीं होने वाले वाहनों की बिक्री दी जानी चाहिए या नहीं. Also Read - Chanda Kochar Latest News: चंदा कोचर को सुप्रीम कोर्ट से लगा झटका, फैसले के खिलाफ याचिका खारिज; जानें- क्या है पूरा मामला

अनुमति देने के कदम का विरोध
इस मामले मे न्याय मित्र की भूमिका निभा रही अधिवक्ता अपराजिता सिंह ने ऑटोमोबाइल निर्माताओं को 31 मार्च, 2020 तक निर्मित उन चार पहिया वाहनों को 30 जून, 2020 तक बिक्री की अनुमति देने के कदम का विरोध किया था, जो बीएस-6 के मानक के अनुरूप नहीं है.

तीन महीने और छह महीने की मोहलत 
अतिरिक्त सालिसीटर जनरल एएनएस नाडकर्णी ने शीर्ष अदालत से कहा था कि केंद्र महसूस करता है कि वाहन निर्माताओं को एक अप्रैल, 2020 के बाद बीएस-4 वाहनों के अपने स्टाक की बिक्री के लिए तीन महीने और छह महीने की मोहलत देना उचित होगा.