BSE Sensex News: भारत का बेंचमार्क इक्विटी इंडेक्स एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स शुक्रवार को 60,000 का आंकड़ा पार कर गया. इसे 10,000 अंक बढ़ने में 246 दिन लगे. जिसमें से पिछले 5,000 अंक हासिल करने में इसे केवल 42 दिन लगे. आज सुबह 30 अंकों के तेजी के साथ खुलने के ठीक बाद सेंसेक्स मील के पत्थर 60 हजार के आंकड़े को पार कर लिया, जिसमें लार्ज कैप द्वारा संचालित कई इंडेक्स हैवीवेट अपने-अपने उच्च स्तर को छू रहे हैं. सेंसेक्स 59,885.36 अंक के पिछले बंद से 60,158.76 अंक पर खुला.Also Read - वैश्विक संकेतों से शेयर बाजार में उछाल, रियल्टी शेयरों में तेजी, देखें तस्वीरें

दोपहर 12.10 बजे सेंसेक्स अपने पिछले बंद से 242.14 अंक या 0.40 प्रतिशत की बढ़त के साथ 60,127.50 अंक पर कारोबार करता हुआ नजर आया. दोपहर पूर्व सत्र के दौरान एनएसई निफ्टी-50, 17,900 अंक से ऊपर कारोबार कर रहा है. यह 17,822.95 के अपने पिछले बंद के मुकाबले 17,897.45 अंक पर खुला. निफ्टी ने 17,927.20 अंक के रिकॉर्ड उच्च स्तर को छुआ. Also Read - Stock market LIVE Update: IT शेयरों में गिरावट से सेंसेक्स 61,000 के नीचे फिसला, 18,150 पर पहुंचा निफ्टी

सेक्टर की बात करें, तो रियल्टी, आईटी, मीडिया और टेलीकॉम इंडेक्स 18 मई, 2021 के बाद से सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले रहे. लेकिन, ऑटो, फार्मा और मेटल इंडेक्स में गिरावट दर्ज की गई. Also Read - Stock market latest update: ऑल टाइम हाई पर पहुंचा सेंसेक्स, निफ्टी 18,600 के पार, जानें- कौन से शेयर हैं टॉपरफॉर्मर?

बीएसई के 200 शेयरों में जेएसडब्ल्यू एनर्जी, माइंडट्री, आईआरसीटीसी और एमफैसिस इस अवधि में 100 फीसदी से ज्यादा आगे बढ़े. इसके अलावा, एलटीआई, एलटीटीएस, गोदरेज प्रॉपर्टीज और जी ईएनटी अन्य बड़े लाभार्थी रहे.

सभी लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप मिलाकर 250 लाख करोड़ रुपये को पार कर गया.

दोपहर तक एनएसई निफ्टी 50 में तेजी आई. यह अपने पिछले बंद से 60.75 अंक या 0.34 प्रतिशत अधिक बढ़कर 17,883.70 अंक पर पहुंच गया.

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड रिटेल रिसर्च सिद्धार्थ खेमका ने कहा, “घरेलू बाजार में पॉजिटिव वैश्विक संकेतों, एफआईआई या डीआईआई द्वारा मजबूत प्रवाह, अच्छी कॉरपोरेट आय, गिरते कोविड -19 मामलों, उत्साहित कॉरपोरेट टिप्पणियों और पूंजी की कम लागत से प्रेरित है. उत्साहजनक भावना और बढ़ी हुई गतिविधि के बीच, निफ्टी वैल्यूएशन ऊंचे स्तर पर पहुंच गया और कमाई की उम्मीदों पर लगातार डिलीवरी की मांग की.”

“बढ़े मूल्यांकन को देखते हुए, कोई भी रुक-रुक कर अस्थिरता को नजरअंदाज नहीं कर सकता है. हालांकि, हम आर्थिक गतिविधियों में सुधार और कॉरपोरेट आय में सुधार के पीछे पॉजिटिव गति जारी रहने की उम्मीद करते हैं.”

कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च के तकनीकी अनुसंधान प्रमुख आशीष बिस्वास के अनुसार, “अतिरिक्त तरलता और कम ब्याज दर व्यवस्था के कारण बाजार बढ़ रहा है. निवेशकों ने प्रोत्साहन को वापस लेने और ब्याज दरों को बढ़ाने पर फेडरल रिजर्व के रुख से राहत महसूस की.”

“एफआईआई और डीआईआई ने बाजार में और अधिक निवेश किया है, जिससे यह और बढ़ गया है. तीसरी लहर का डर भी कम हो गया है और निवेशक अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभावों के बारे में चिंतित नहीं हैं क्योंकि ज्यादा से ज्यादा लोग टीकाकरण करवा रहे हैं.”

इसके अलावा, एचडीएफसी सिक्योरिटीज के एमडी और सीईओ, धीरज रेली ने कहा, “यह एफपीआई और स्थानीय निवेशकों की वापसी के प्रभाव को दर्शाता है, जो बार-बार सामने आने के बावजूद निवेश करना जारी रख रहे हैं.”

“पिछले 18 महीनों में सूचकांकों में 10 प्रतिशत की गिरावट का अभाव स्थानीय निवेशकों की परिपक्वता को दर्शाता है, लेकिन अगले कुछ हफ्तों या महीनों में ऐसा होने की संभावना को भी बढ़ाता है.”

(With IANS Inputs)