नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने कहा कि केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) की ओर से पेश किए गए आम बजट से यह साबित होता है कि राष्ट्रीय राजधानी भाजपा की प्राथमिकता सूची में नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने सवाल किया कि लोग भगवा पार्टी को वोट क्यों दे, जबकि इस पार्टी ने विधानसभा चुनाव से तुरंत पहले ही शहर को निराश कर दिया है.Also Read - आशीष मिश्रा को क्या हाईकोर्ट से फिर मिलेगी बेल, 30 मई को जमानत याचिका पर होगी सुनवाई

हल्दी जैसी पीली साड़ी, बजट पर लाल कपड़ा: संसद में ऐसे पहुंचीं निर्मला सीतारमण, बदल दी ये परंपरा Also Read - महाराष्ट्र में ओबीसी रिजर्वेशन के मुद्दे पर सियासत तेज, पंकजा मुंडे ने एमवीए सरकार पर बोला हमला

मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, “दिल्ली को बजट से बहुत उम्मीदें थी. लेकिन एक बार फिर दिल्ली वालों के साथ सौतेला व्यवहार हुआ. दिल्ली भाजपा की प्राथमिकताओं में आता ही नहीं, तो दिल्ली वाले भाजपा को वोट क्यों दें. सवाल यह भी है कि चुनाव से पहले ही जब भाजपा दिल्ली को निराश कर रही है तो चुनाव के बाद अपने वादे क्या निभाएगी.” Also Read - यूपी विधान परिषद में गूंजा बीजेपी MLC पर DM के चिल्लाने का मामला, सदन में तलब करने की मांग उठी

दिल्ली की सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी(आप) गत कई वर्षो से दिल्ली नगर निगम(एमसीडी) और शहर के लिए ज्यादा फंड की मांग कर रही है. इससे पहले दिन में, केजरीवाल ने कहा था कि आम बजट यह बताएगा कि भाजपा दिल्ली की कितनी परवाह करती है. इससे पहले मुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा था, “दिल्ली के लोगों को पूरी उम्मीद है कि केंद्र सरकार बजट में दिल्ली के हितों की रक्षा करेगी. चुनाव के मद्देनजर दिल्ली को और भी ज्यादा मिलना चाहिए. बजट बताएगा कि भाजपा को हम दिल्लीवालों की कितनी परवाह है.”

कौन हैं पंडित दीनानाथ कौल, बजट पेश करते हुए निर्मला सीतारमण ने पढ़ी जिनकी कविता

चुनाव आयोग ने छह जनवरी को जब दिल्ली विधानसभा चुनाव की तिथि घोषित की थी तब कहा था कि सरकार को शहर में आठ फरवरी को होने वाले चुनाव के चलते किसी भी प्रकार की राज्य आधारित परियोजनाओं की घोषणा नहीं करनी चाहिए. हालांकि केजरीवाल ने मांग की थी कि केंद्र को बजट में शहर के लिए प्रावधानों की घोषणा करनी चाहिए.

Union Budget 2020: अखिलेश यादव की तीखी प्रतिक्रिया, कहा- दशक का पहला दिवालिया बजट