Budget 2020 Highlights: सरकार ने अपने विनिवेश कार्यक्रम के तहत देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) में अपनी कुछ हिस्सेदारी आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के जरिए बेचने की घोषणा की है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश करते हुए कहा कि भारत सरकार एलआईसी में अपना कुछ हिस्‍सा बेचगी. उन्होंने कहा कि भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कराया जाएगा.Also Read - बाजार में गिरोहबंदी की चुनौती से निपटना होगा, जिंसों की आपूर्ति में कमी के कारणों का पता लगाने की आवश्यकता: सीतारमण

हालांकि वैसे तो सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कई कल्याण योजनाओं मसलन सस्ता घर, प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) और आयुष्मान भारत का जिक्र किया लेकिन जैसे ही उन्होंने एलआईसी में सराकर की हिस्सेदारी बेचने की बात कही वैसे ही विपक्ष ने हंगामा करना शुरू कर दिया. उन्होंने कहा कि एलआईसी का निजीकरण किया जाएगा और भारत सरकार अपनी हिस्सेदारी कम करेगी. एलआइसी का अपना हिस्सा बेचने के लिए सरकार आइपीओ लाएगी. Also Read - LIC IPO: लगभग 9 फीसदी नीचे लिस्ट हुए एलआईसी के शेयर, जानें- पॉलिसीधारकों और निवेशकों अब क्या करना चाहिए?

बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा, “एलआईसी में सरकारी हिस्से का विनिवेश होगा और इसे बाजार में सूचीबद्ध कराया जाएगा. यह एक बड़ा सुधार है. इससे देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी के कामकाज में पारदर्शि‍ता आएगी.” वित्त मंत्री ने कहा कि इस साल राजकोषीय घाटा जीडीपी का 3.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है. अगले साल के लिए 3.5 प्रतिशत का लक्ष्य रखा गया है. अभी एलआईसी की पूरी हिस्सेदारी सरकार के पास है. Also Read - LIC ने लॉन्च किया शानदार प्लान, सिर्फ एक बार जमा करें पैसा, जिंदगी भर मिलेगी पेंशन, जानें- स्कीम की डिटेल्स