नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश करते हुए कहा कि देश में तेजस की तरह और रेलगाड़ियां चलाई जाएंगी. उन्होंने कहा कि मुंबई-अहमदाबाद हाई-स्पीड ट्रेन का काम आगे बढ़ाया जाएगा. इसके साथ ही बेंगलुरू उप-नगरीय रेलगाड़ी परियोजना में केंद्र सरकार 20 प्रतिशत शेयर पूंजी लगाएगी. Also Read - Private Banks Can Get Govt Business: अब कर संग्रह, पेंशन भुगतान और लघु बचत योजनाओं जैसे काम भी करेंगे निजी बैंक

इसके अलावा वित्त मंत्री ने बजट में कहा कि भारतीय रेल जल्दी खराब होने वाले सामान की ढुलाई के लिये PPP मॉडल पर ‘किसान रेल’ चलाएगी. उड़ान योजना को बढ़ावा देने के लिए 100 और हवाई अड्डों का विकास किया जाएगा. नागर विमानन मंत्रालय घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर ‘कृषि उड़ान सेवा’ शुरू करेगा, पूर्वोत्तर और जनजातिय जिलों में मूल्यवर्द्धन पर जोर दिया जाएगा. Also Read - Privatisation of PSU Banks: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का निजीकरण क्यों करना चाहती है भारत सरकार?

दरअसल रेल सेवा के अलावा किसानों की उपज का सही मूल्य दिलाने के लिए केंद्र सरकार एविएशन मिनिस्ट्री की मदद से विशेष किसान उड़ान योजना भी शुरू कर रही है. इसके तहत किसानों की उपज को विशेष तरह के विमानों के जरिए एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाया जाएगा. इससे किसानों की उपज को बाजारों तक जल्द से जल्द पहुंचाने में मदद मिलेगी. ये फ्लाइटें घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों तरह की होंगी. Also Read - Who is Doomsday Man: कौन है अमेरिका का 'डूम्सडे मैन', जिससे हुई राहुल गांधी की तुलना, कांग्रेस ने वित्त मंत्री को दिया नोटिस

वित्त मंत्री ने कहा कि गरीब तबके का ध्यान रखा जाएगा. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने पर कायम है. किसानों की आय बढ़ाने के लिए 16 अहम फैसले लिए गए हैं. उन्होंने साथ ही कहा कि कृषि मंडियों में कामकाज में सुधार की जरूरत है और हम सस्टेनेबल क्रॉपिंग पैटर्न पर काम कर रहे हैं. किसानों को पीएम किसान योजना का लाभ मिल रहा है. इसके अलावा, पीएम कुसुम स्कीम के जरिए 20 लाख किसानों को सोलर पंप मुहैया करवाए जाएंगे और 100 सूखाग्रस्त जिलों के विकास पर काम होगा.