Budget 2021: कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) की वजह से कई मोर्चों पर अनिश्चितता बनी हुई है, जिसके बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) शुक्रवार को देश के प्रमुख अर्थशास्त्रियों (Economists) और विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञों (Sectoral Experts) से इनसे निजात पाने के उपायों पर बातचीत करेंगे. जिन्हें वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए आगामी बजट में शामिल किया जा सकता है.Also Read - कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने औषधीय खेती को बढ़ावा देने पर दिया जोर, किसानों की आमदनी बढ़ाने के भी बताए उपाय

बैठक का आयोजन सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग (Niti Aayog) द्वारा किया जा रहा है और इसमें नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार (Rajiv Kumar) और नीति आयोग के सीईओ (CEO) अमिताभ कांत (Amitabh Kant) भी शामिल होंगे. Also Read - GDP Growth Rate: देश की GDP वृद्धि दर जुलाई-सितंबर तिमाही में 8.4 प्रतिशत रही

एक सरकारी अधिकारी ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर समाचार एजेंसी PTI को बताया कि प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार को अगले बजट पर सलाह लेने के लिए अर्थशास्त्रियों से मिलेंगे. Also Read - Cryptocurrency Bill 2021: कैबिनेट की मंजूरी के बाद संसद में आएगा क्रिप्टो बिल: वित्त मंत्री

बता दें, यह बैठक इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के अनुमानों के अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था का आकार चालू वित्त वर्ष में 7.5 फीसदी घट सकता है, जबकि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (International Monetary Fund, IMF) और विश्व बैंक (World Bank) का अनुमान है कि इसमें क्रमशः 10.3 फीसदी और 9.6 फीसदी कमी होगी.

गौरतलब है कि भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) में चालू वित्त वर्ष की सितंबर तिमाही के दौरान उम्मीद से अधिक रफ्तार से भरपाई हुई और इस दौरान मैन्यूफैक्चरिंग क्षेत्र (Manufacturing Sector) का प्रदर्शन बेहतर रहा. इससे यह उम्मीद की जा रही है कि उपभोक्ता मांग में सुधार हो सकता है.

वहीं, आगामी केंद्रीय बजट (Budget 2021) एक फरवरी 2021 को पेश किए जाने की संभावना है. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ऐसे समय में यह बजट पेश करेंगी, जब कोरोना महामारी को लेकर कई मोर्चों पर विभिन्न तरह की अनिश्चितताएं बनी हुई हैं.