नयी दिल्लीः वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को कहा कि इस बजट का लक्ष्य लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना, कारोबार मजबूत करना और अल्पसंख्यकों, अनुसूचित जाति/जनजाति की सभी महिलाओं की आकांक्षाओं को पूरा करना है. उन्होंने लोकसभा में 2020-21 का बजट पेश करते हुए पूर्व वित्तमंत्री एवं जीएसटी के शिल्पकार दिवंगत अरूण जेटली को श्रद्धांजलि दी. Also Read - 7th Pay Commission: लाखों केंद्रीय कर्मियों के लिए खुशखबरी! DA को लेकर आई यह अच्छी खबर...

उन्होंने जीएसटी को बड़ा संरचनात्मक बदलाव बताते हुए कहा कि इससे अर्थव्यवस्था को लाभ हुआ है और उपभोक्ताओं को एक लाख करोड़ रुपये का फायदा हो रहा है. सीतारमण हल्दी जैसे पीले रंग की साड़ी पहन बजट पेश करने संसद पहुंची. उन्होंने लोकसभा में 15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट को भी पटल पर रखा. Also Read - GST Collection March 2021: मार्च में जीएसटी का बंपर कलेक्शन, अभी तक की मेगा वसूली

Budget2020: देश के अन्नदाता को ‘ऊर्जादाता’ बनाएगी सरकार, शुरू होगी किसान रेल Also Read - अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भारत की अर्थव्यवस्था पर जताई उम्मीद, पटरी पर लौट रही है इंडियन इकोनॉमी

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत है. सरकार ने 2014 से 2019 के दौरान राजकाज में व्यापक बदलाव किये हैं. वित्त मंत्री ने बजट 2020 पेश करते हुए शिक्षा, कृषि के क्षेत्र के लिए कई बड़ी घोषणाएं की. उन्होंने कहा कि जल्द ही देश में मोबाइल बनाने के लिए भी नई योजनाओं की घोषणएं की जाएंगी

शिक्षा के क्षेत्र के लिए उन्होंने कहा कि सरकार आगामी वर्ष में 99300 करोड़ रुपये खर्च करेगी और साथ ही कौशल विकास योजना के लिए 3000 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा. देश में शिक्षा के ज्यादा से ज्यादा अवसर पैदा हो सकें इसके लिए उन्होंने कहा कि आज से हम स्टडी इन इंडिया जोजना लागू कर रहे हैं.