नई दिल्लीः वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण(Nirmala Sitharaman) ने आज संसद में यूनियन बजट 2020(Union Budget 2020) पेश किया. बजट पेश करने से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर(Anurag Thakur) के साथ राष्ट्रपति भवन पहुंची और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से बजट पेश करने की अनुमति ली. वित्त मंत्री ने आज के इस आम बजट में केंद्र की मोदी सरकार के किसानों के विजन को सामने रखा.Also Read - टैक्स फ्री ब्याज के लिए अब बढ़ाई जा सकती है पीएफ डिपॉजिट की सीमा, यहां जानिए-आपको कितना होगा फायदा?

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार 2022 तक देश के किसानों आय दुगनी करने के लक्ष्य को लेकर चल रही है और इस क्षेत्र में कारगर कदम भी उठा रही है. पीएम फसल योजन को लेकर वित्त मंत्री ने इससे देश के कंडीशन्स पहले से बेहतर हुई है. उन्होंने कहा कि पीएम फसल योजना से 6.11 करोड़ किसानों हुआ लाभ है. वित्त मंत्री ने कहा आज की सरकार देश के अन्न दाता तो ऊर्जा दाता बनाने पर प्रयासरत है. Also Read - एलआईसी के बाद अब आई दो बैंकों के निजीकरण की बारी, कानून में संशोधन के लिए तेज होगी प्रक्रिया

Also Read - खाद्य तेलों की कीमतों में आएगी कमी, भारत ने दिया 20 लाख टन तेल के शुल्क मुक्त आयात की अनुमति

नई सदी के पहले बजट को पेश करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार किसानों की भलाई के लिए 16 सूत्री योजनाओं पर काम कर रह रही है और साथ ही उन्होंने राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय रुट पर कृषि उड़ान शुरू करने की भी घोषणा की. वित्त मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार देश के ऐसी 100 जगहों पर खास ध्यान दे रही है जहां पानी की किल्लत अधिक है.

निर्मला सीतारमण ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना से किसानों की आय में बढ़ोत्तरी हुई है. उन्होंने कहा कि सरकार दालों की खेती और लघु सीचाई योजना पर फोकस कर रही है और किसानों को इसके लिए सहूलियत देने के कारगर कदम उठाएगी.

वित्त मंत्री ने कहा कि खाली पड़ी जमीन में सोलर प्लांट लगाए जाएंगे और इसे सोलर ग्रिस से जोड़ा जाएगा. उन्होंने सरकार ब्लॉक और तहसील लेवल पर वेयरहाउस बनाने में किसानों की मदद करेगी.