मुंबईः मुंबई शेयर बाजार में गुरुवार उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में संवेदी सूचकांक अंत में 25 अंक के मामूली नुकसान के साथ 33,819.50 अंक पर बंद हुआ. रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति बैठक में मुद्रास्फीति को लेकर चिंता व्यक्त किए जाने से कारोबारी धारणा प्रभावित हुई. एशियाई बाजारों में भी गुरुवार नरमी का रुख रहा. उधर, अमेरिका के फेडरल रिजर्व की समीक्षा बैठक में आने वाले दिनों में दरों में वृद्धि के संकेत मिलने से घरेलू बाजारों में गतिविधियां प्रभावित रहीं. बहरहाल, गुरुवार को फरवरी के वायदा एवं विकल्प अनुबंधों की समाप्ति पर माह के दौरान सेंसेक्स में 6.18 प्रतिशत यानी 2,230.94 अंक और निफ्टी में 6.20 प्रतिशत यानी 6876.95 अंक की गिरावट दर्ज की गई.

रिजर्व बैंक की 6- 7 फरवरी को हुई मौद्रिक समीक्षा बैठक के ब्यौरे से पता चलता है कि मौद्रिक नीति समिति के सदस्यों ने बैठक में मुद्रास्फीति को लेकर चिंता जताई. सदस्यों ने आर्थिक गतिविधियों में सुधार आने को लेकर भी अनिश्चितता व्यक्त की. इस खुलासे का कारोबारी धारणा पर असर पड़ा. फरवरी वायदा और विकल्प अनुबंध के निपटान का गुरुवार अंतिम दिन था. सटोरियों और निवेशकों ने अपने बकाया सौदों को निपटान के वास्ते बाजार में खरीदारी भी की. हालांकि निवेशकों में रुपये में भारी गिरावट के चलते सतर्कता का रुख रहा.

सेंसेक्स में कारोबार की शुरुआत 33,817.09 अंक पर नीचे में हुई. कारोबार के दौरान यह और गिरकर 33,691.42 अंक तक गया. इसके बाद निचले स्तर पर सटोरियों की लिवाली से बाजार की गिरावट काफी कुछ दूर हो गई. कारोबार की समाप्ति पर सेंसेक्स पिछले दिन के मुकाबले 25.36 अंक यानी 0.07 प्रतिशत नीचे रहकर 33,819.50 अंक पर बंद हुआ.

इसी प्रकार निफ्टी में 14.75 अंक यानी 0.14 प्रतिशत की गिरावट से सूचकांक 10,382.70 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में यह 10,340.65 अंक से लेकर 10,393.15 अंक के बीच घट-बढ़ में रहा. सेंसेक्स में शामिल शेयरों में डा. रेड्डीज के शेयर में सबसे ज्यादा 2.19 प्रतिशत की गिरावट आई. ओएनजीसी का शेयर मूल्य 2.05 प्रतिशत तक घट गया. इसके अलावा पावर ग्रिड, टाटा मोटर्स, मारुति सुजूकी, एक्सिस बैंक, बजाज आटो, एनटीपीसी, एशियन पेंट्स, भारतीय एयरटेल,रिलायंस इंडस्ट्रीज, टाटा स्टील, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, हिन्दुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी बैंक, हीरो मोटो कर्प, स्टेट बैंक और अीसीएस के शेयरों में भी 1.88 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज की गई.