बेंगलुरू: कांग्रेस पार्टी की कर्नाटक इकाई ने शनिवार को केंद्र की राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार द्वारा भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) में हिस्सेदारी की प्रस्तावित बिक्री पर कड़ी आपत्ति जताई. पार्टी की राज्य इकाई ने यहां ट्वीट किया, “राजग सरकार की एक और गड़बड़ी यह है कि उन्होंने एलआईसी में हिस्सेदारी बेचने की घोषणा की है. यह फिर से एलआईसी के निजीकरण और इसे निजी पार्टियों के लिए खोलने की बोली है. इससे लोगों की जमा पूंजी खतरे में होगी.”

केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए आम बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार ने एलआईसी में अपनी हिस्सेदारी का एक हिस्सा प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव (आईपीओ) के माध्यम से बेचने का प्रस्ताव रखा है. कांग्रेस ने अपने ट्वीट में सरकार व भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार रेलवे से लेकर एलआईसी तक, अपने पूंजीवादी दोस्तों को देश बेचने पर तुली हुई है.

हालांकि मंत्री ने एलआईसी की बिक्री के बारे में कोई विवरण नहीं दिया. केंद्र सरकार के पास एलआईसी में पूरी 100 फीसदी इक्विटी है, जिसे वर्ष 1956 में संसद के अधिनियम द्वारा स्थापित किया गया था.