मुंबई: घरेलू शेयर बाजारों में गिरावट का सिलसिला लगातार चौथे दिन जारी रहा और बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स बृहस्पिवार को 581 अंक से अधिक टूट कर 28,288.23 अंक पर बंद हुआ. कोरोना वायरस महामारी के कारण वैश्विक आर्थिक मंदी की आशंका में निवेशक सुरक्षित विकल्पों को तरजीह दे रहे हैं. प्रमुख तीस कंपनियों के शेयरों पर आधारित सेंसेक्स में एशिया के अन्य बाजारों की तरह ही गिरावट रही. सेंसेक्स दोपहर में कुछ समय की तेजी के बाद बिकवाल के दबाव में आगया. यह अंत में 581.28 अंक यानी 2.01 प्रतिशत की बढ़त के साथ 28,288.23 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान इसमें 2,656.07 अंक का उतार-चढ़ाव आया. Also Read - कोरोना के कहर के बीच ऐसी गलती: हॉस्पिटल ने डिस्चार्ज कर दिए संक्रमित मरीज, हड़कंप

इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 205.35 अंक यानी 2.42 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,263.45 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान एक समय यह 7,900 के स्तर से नीचे चला गया था. कारोबारियों के अनुसार कारोबार के दौरान रुपये की विनिमय दर डॉलर के मुकाबले 75 को पार कर गया. इससे बाजार धारणा और प्रभावित हुई. सेंसेक्स के शेयरों में बजाज फाइनेंस को सर्वाधिक नुकसान हुआ. इसमें 10.24 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आयी. उसके बाद क्रमश: मारुति (9.85 प्रतिशत), एक्सिस बैंक (9.50 प्रतिशत), महिंद्रा एंड महिंद्रा (9.28 प्रतिशत), टेक महिंद्रा (8.43 प्रतिशत) और ओएनजीसी (7.35 प्रतिशत) का स्थान रहा. वहीं लाभ में रहे प्रमुख शेयरों में आईटीसी, भारती एयरटेल, कोटक बैंक और हीरो मोटो कार्प में 7.50 प्रतिशत तक की तेजी आयी. Also Read - EMI रोकने के बहाने फ्रॉड कर रहे हैं साइबर अपराधी, SBI ने ग्राहकों को चेताया

आर्थिक प्रभाव की चिंता के बीच वैश्विक बाजरों में गिरावट
आनंद राठी शेयर्स एंड स्टाक ब्रोकर्स के इक्विटी शोध प्रमुख नरेंद्र सोलंकी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के आर्थिक प्रभाव की चिंता के बीच वैश्विक बाजरों में गिरावट आयी और उतार-चढ़ाव देखा गया. उन्होंने कहा कि दोपहर के कारोबार में बाजार में मामूली तेजी रही लेकिन ज्यादतर समय बाजार में गिरावट ही रही. कारोबारियों के अनुसार विभिन्न देशों के केंद्रीय बैंकों और सरकारों के प्रोत्साहन उपायों की घोषणा के बावजूद एशिया में निवेशकों की धारणा कमजोर बनी हुई है. निवेशकों को चिंता है कि वैश्विक अर्थव्यवस्था आर्थिक मंदी में जा रही है. Also Read - प्यार वो ज़हर है जिसे हर हाल में पिया जा सकता है, उर्वशी की ये तस्वीर आखिर क्या कहना चाहती है

एशिया के अन्य बाजारों में भी गिरावट
एशिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कोस्पी में सर्वाधिक 8 प्रतिशत की गिरावट आयी. हांगकांग का हैंग सेंग, जापान का निक्की और चीन के शंघाई कंपोजिट सूचकांक में भी गिरावट दर्ज की गयी. हालांकि यूरोपीय सेंट्रल बैंक (ईसीबी) के अचानक से 750 अरब यूरो के प्रोत्साहन पैकेज की घोषणा से यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में तेजी रही. आर्थिक नरमी की चिंता के बीच ईसीबी ने बुधवार को 750 अरब यूरो मूल्य के सरकारी और निजी कंपनियों के बांड खरीदने की घोषणा की. इस बीच, कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या दुनिया भर में 2,00,000 पहुंच गयी है जबकि मरने वालों की संख्या 8,000 हो गयी है. स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में कोरोना वायरस के 18 और मामले सामने आने के बाद प्रभावित लोगों की संख्या बढ़कर 148 हो गयी है.