मुंबई: कमजोर वैश्विक धारणा से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स मंगलवार को 188 अंक नीचे आया. कोरोना विषाणु के तेजी से फैलने और उसके वैश्विक आर्थिक प्रभाव की आशंका से निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है. तीस शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 188.26 अंक यानी 0.46 प्रतिशत टूटकर 40,966.86 अंक पर बंद हुआ. कारोबार के दौरान इसमें 463 अंक से अधिक का उतार-चढ़ाव आया. इसी प्रकार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 63.20 अंक यानी 0.52 प्रतिशत की गिरावट के साथ 12,055.80 अंक पर बंद हुआ.

सेंसेक्स के शेयरों में भारती एयरटेल को सर्वाधिक नुकसान हुआ. कंपनी का शेयर 4.55 प्रतिशत नीचे आ गया. उसके बाद क्रमश: टाटा स्टील, रिलायंस इंडस्ट्रीज, मारुति, आईटीसी, नेस्ले इंडिया और आईसीआईसीआई बैंक का स्थान रहा. वहीं दूसरी तरफ एचडीएफसी, बजाज फाइनेंस, सन फार्मा और एचडीएफसी बैंक में 1.53 प्रतिशत तक की तेजी आयी. विश्लेषकों के अनुसार चीन में फैले कोरोना विषाणु का वैश्विक अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव की आशंका से दुनिया के बाजारों में बिकवाली देखी गयी. इससे वैश्विक बाजारों में तीव्र उतार-चढ़ाव आया.

इसके अलावा इस सप्ताह जनवरी के वायदा एवं विकल्प खंड के सौदों के समाप्त होने से पहले निवेशक थोड़े सतर्क दिखें. दुनिया के अन्य बाजारों में दक्षिण कोरिया का कोस्पी 3 प्रतिशत और जापान का निक्की 0.55 प्रतिशत नीचे आये. यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में नरम रुख रहा. ब्रेंट क्रूड का वायदा भाव 0.77 प्रतिशत टूटकर 589.13 डॉलर प्रति बैरल रहा.