नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए 17 मई तक लॉकडाउन को आगे बढ़ाया गया है. हालांकि लॉकडाउन के इस तीसरे चरण में कई छूट दी गई हैं. इसी छूट में शराब की दुकानों को दोबारा खोलने की अनुमति भी शामिल है. लॉकडाउन में ढील मिलने के बाद सोमवार को खुली शराब की दुकानों पर देश भर में भारी भीड़ उमड़ पड़ी. इसी को देखते हुए शराब निर्माता कंपनियों ने भारी भीड़ तथा लोगों के बीच आपस में सुरक्षित दूरी के निर्देश के उल्लंघन के मद्देनजर सोमवार को एक बार फिर से शराब की ऑनलाइन बिक्री को इजाजत देने की वकालत की. Also Read - अमेरिका में कोरोना वायरस से 1,00,000वें व्यक्ति की मौत, 500 से अधिक भारतीय भी हुए आकाल मौत के शिकार

कोरोना वायरस महामारी के कारण पूरे देश में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू है. तीन मई को लॉकडाउन का दूसरा चरण समाप्त हो गया और अब 17 मई तक इसका तीसरा चरण चलेगा. सरकार ने राजस्व के हो रहे नुकसान के मद्देनजर लॉकडाउन के तीसरे चरण में शराब की दुकानों को खोलने की ढील दी है. इसी के तहत करीब 40 दिन बाद शराब की दुकानें सोमवार को खुलीं. हालांकि लोगों की भारी भीड़ उमड़ने तथा अफरा-तफरी मचने के कारण दिल्ली, पश्चिम बंगाल, राजस्थान और आंध्र प्रदेश में खुलने के कुछ ही मिनट बाद दुकानों को बंद करना पड़ गया. Also Read - अम्फान प्रभावितों की मदद को आगे आया KKR, किया इस नेक काम का वादा

शराब उद्योग के संगठनों ऑल इंडिया डिस्टिलर्स एसोसिएशन (एआईडीए), ऑल इंडिया ब्रेवर्स एसोसिएशन (एआईबीए) और कंफेडरेशन ऑफ इंडियन अल्कोहलिक बेवरेज कंपनीज (सीआईएबीसी) ने कहा कि करीब डेढ़ महीने से लोगों को शराब नहीं मिली, इस कारण सोमवार को दुकान खुलते ही लोग इन दुकानों पर टूट पड़े. कुछ संगठनों ने कहा कि उन्हें पहले से ही ऐसा होने का अंदेशा था और इसी कारण उन्होंने सरकार को शराब की ऑनलाइन बिक्री करने और होम डिलिवरी करने की इजाजत देने का सुझाव दिया था. एआईडीए ने दुकानें खोलने की छूट देने के निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि स्थानीय प्रशासन को दुकानों पर भीड़ नियंत्रित करना चाहिये था. Also Read - Coronavirus In India Update: कोरोना ने ढाया कहर, 24 घंटे में कुल 194 लोगों की हुई मौत, इन राज्यों का बुरा हाल

सीआईएबीसी ने कहा कि लगभग 40 दिनों के निषेध के बाद जब कोई “बहुत ज्यादा वांछित” उत्पाद बाजार में उपलब्ताध होता है, तो यह बहुत सारे खरीदारों को आकर्षित करेगा. संगठन के चेयरमैन विनोद गिरी ने कहा, ‘ यह किसी भी उद्योग के साथ हो सकता है.’’ उन्होंने सुझाव दिया कि सरकार को अन्य उत्पादों की तरह शराब की ऑनलाइन बिक्री की अनुमति देनी चाहिये. यह लॉकडाउन अवधि के दौरान सामाजिक दूरी के मानदंडों का अनुपालन सुनिश्चित करेगा. यदि ऑनलाइन बिक्री जैसे चैनलों को अनुमति दी जाती है, तो इससे दुकान पर भार कम हो जाता है और बहुत से लोगों को दुकान पर जाने की जरूरत नहीं होगी.

एआईबीए के महानिदेशक शोभन रॉय ने कहा कि उद्योग जगत ने पहले ही इस तरह की भीड़ की आशंका जतायी थी और सरकार को शराब की ऑनलाइन बिक्री की अनुमति देने का सुझाव दिया था.

(इनपुट भाषा)