मुंबई: कोरोना के कहर से पैदा हुई आर्थिक चुनौतियों से निपटने के लिए सरकार द्वारा राहत के उपाय करने और भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से आर्थिक प्रोत्साहन देने के बावजूद देश के शेयर बाजार पर इस सप्ताह महामारी के प्रकोप का साया बना रहा, हालांकि सेंसेक्स और निफ्टी पिछले सप्ताह के मुकाबले मामूली गिरावट के साथ बंद हुए. बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स पिछले सप्ताह के मुकाबले 100.37 अंकों यानी 0.34 फीसदी की गिरावट के साथ 29,815.59 पर बंद हुआ. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 षेयरों पर आधारित प्रमुख सूचकांक निफ्टी 85.20 अंकों यानी 0.97 फीसदी की गिरावट के साथ 8,660.25 पर बंद हुआ. Also Read - Lockdown5.0 में खुलेंगे स्कूल, कॉलेज! केंद्र सरकार ने जारी किए नए दिशा-निर्देश, जानें अब क्या हैं नियम

बीएसई मिडकैप सूचकांक 603.52 अंकों यानी 5.42 फीसदी की गिरावट के साथ 10,537.86 पर जबकि स्मॉल-कैप सूचकांक 616.12 अंकों यानी 6.09 फीसदी की गिरावट के साथ 9,497.24 पर बंद हुआ. दुनियाभर में कोरोना के कहर से वैष्विक बाजारों से मिले कमजोर संकेतों से सोमवार को भारतीय शेयर बाजार में मचे कोहराम के बीच सेंसेक्स पिछले सत्र से 3,934.72 अंकों यानी 13.15 फीसदी की भारी गिरावट के साथ 25,981.24 पर बंद हुआ और निफटी 1,135.20 अंकों यानी 12.98 फीसदी की गिरावट के साथ 7,610.25 पर बंद हुआ. हालांकि मंगलवार को बाजार में जोरदारी रिकवरी आई और सेंसेक्स 692.79 अंकों यानी 2.67 फीसदी की तेजी के साथ 26,674.03 पर बंद हुआ और निफटी 190.80 अंकों यानी 2.51 फीसदी की तेजी के साथ 7,801.05 पर बंद हुआ. Also Read - World No Tobacco Day 2020: कोरोना काल में धूम्रपान करने से बचें, नहीं तो बढ़ सकता है संक्रमण का अधिक खतरा

तेजी का सिलसिला बुधवार को भी जारी रहा और सेंसेक्स पिछले सत्र से 1,861.75 अंकों यानी 6.98 फीसदी की तेजी के साथ 28,535.78 पर बंद हुआ. निफटी पिछले सत्र से 516.80 अंकों यानी 6.62 फीसदी की तेजी के साथ 8,317.85 पर बंद हुआ. लगातार तीसरे सत्र में तेजी जारी रही और गुरूवार को सेंसेक्स 1,410.99 यानी 4.94 फीसदी के जबरदस्त उछाल के साथ 29,946.77 पर जबकि निफ्टी 323.60 अंकों यानी 3.89 फीसदी की तेजी के साथ 8,641.45 पर बंद हुआ. हालांकि सप्ताह के आखिरी सत्र में भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट में 75 आधार अंकों की कटौती करने के बावजूद बाजार को प्रोत्साहन नहीं मिला क्योंकि आरबीआई ने कोरोनावायरस के प्रकोप के कारण अर्थव्यवस्था पर असर पड़ने की आशंका जताई. Also Read - Railway and Flights Rules and Regulations: 1 जून से बदलने वाले हैं रेलवे, बस और फ्लाइट्स के ये नियम, बरतनी होगी सावधानी

कोरोनावायरस के प्रकोप की रोकथाम को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार की रात 12 बजे से देश में पूर्ण लॉकडाउन का एलान करते हुए देशवासियों को अगले 21 दिनों तक घरों से बाहर नहीं निकलने का निर्देश दिया. लॉकडाउन के कारण देश में आर्थिक गतिविधियों पर पड़ने वाले असर से लोगों को निजात दिलाने के मकसद से गुरूवार को वित्तमत्री निर्मला सीतारमण ने 1.70 लाख करोड़ रुपए के प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज की घोषणा की.