हांगकांग: अमेरिका के हमले में ईरानी कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की मौत के बाद शुक्रवार को कच्चे तेल की कीमतों में चार प्रतिशत से अधिक की तेजी दर्ज की गई. इस हमले के बाद ईरान और उसके आस-पास के क्षेत्रों में संघर्ष की आशंका बढ़ गई है. Also Read - Crude oil price: बढ़ते कोरोना मामलों के बीच अंतरराष्ट्रीय बाजार में बढ़ रहे हैं कच्चे तेल के दाम, जानिए- क्यों?

अमेरिका ने शुक्रवार सुबह बगदाद के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रॉकेट से हमला किया. इस हमले में ईरान की कुद्स सेना के प्रमुख जनरल कासिम सुलेमानी मारे गए. हमले के बाद, ब्रेंट कच्चा तेल 4.4 प्रतिशत बढ़कर 69.16 डॉलर प्रति बैरल और वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट कच्चा तेल 4.3 प्रतिशत उछलकर 63.84 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया था. Also Read - Crude oil price: कोरोना काल में कच्चे तेल में नरमी, पेट्रोल-डीजल की कीमतों स्थिरता

बता दें कि अमेरिका के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ‘‘विदेश में अमेरिकी कर्मियों की सुरक्षा के लिए स्पष्ट रक्षात्मक कार्रवाई’’ करते हुए ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स कमांडर कासिम सुलेमानी को मारने का आदेश दिया था. रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘जनरल सुलेमानी सक्रिय रूप से इराक में अमेरिकी राजनयिकों और सैन्य कर्मियों पर हमले की सक्रिय रूप से योजना बना रहा था. जनरल सुलेमानी और उसकी फोर्स सैकड़ों अमेरिकियों और अन्य गठबंधन सहयोगियों के सदस्यों की मौत और हजारों को जख्मी करने के लिए जिम्मेदार हैं.’’ Also Read - Crude oil demand recovery: कोविड मामले बढ़ने से वैश्विक तेल बाजार में डिमांड रिकवरी में देरी की संभावना