अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर चीन से आयातित वस्तुओं पर भारी शुल्क लगाने की चेतावनी दी है. ट्रंप द्वारा रविवार को इस बाबत चेतावनी देने के बाद सोमवार को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में दो फीसदी से ज्यादा की गिरावट आई और ब्रेंट क्रूड का भाव फिर 70 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गया. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को ट्वीट करके चीन से आयातित 200 अरब डॉलर की वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाकर 10 फीसदी से 25 फीसदी करने की चेतावनी दी.

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रपति ने रविवार को सिलसिलेवार ट्वीट करके कहा कि वह चीनी वस्तुओं के एक समूह पर आयात शुल्क शुक्रवार को 10 फीसदी से बढ़ाकर 25 फीसदी कर देंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह भी चेतावनी दी है कि वह 325 अरब डॉलर की चीनी वस्तुओं पर भी 25 फीसदी का शुल्क लगाएंगे.

एनर्जी विश्लेषक बताते हैं कि छोटी अवधि में तेल के दाम में और गिरावट आ सकती है. हालांकि कच्चे तेल की कीमतों में आगे रिकवरी आने की संभावना है, क्योंकि ईरान और वेनेजुएला से तेल की आपूर्ति घटने से वैश्विक मांग के मुकाबले आपूर्ति का संकट बना रहेगा. इसका सपोर्ट कच्चे तेल के भाव को मिलेगा.

अंतरराष्ट्रीय वायदा बाजार आईसीई पर सोमवार को कच्चे तेल का जुलाई वायदा पिछले सत्र से 2.10 फीसदी की कमजोरी के साथ 69.36 डॉलर प्रति बैरल पर बना हुआ था. वहीं, डब्ल्यूटीआई का जून अनुबंध 2.29 फीसदी की गिरावट के साथ 60.52 डॉलर प्रति बैरल पर बना हुआ था.

बहरहाल, ट्रंप के बयान से अमेरिका और चीन के बीच जारी व्यापारिक वार्ता के बेपटरी होने से वैश्विक व्यापार प्रभावित होने की आशंका है, जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था के विकास की पहले से ही सुस्त पड़ी रफ्तार और मंद हो जाएगी. चीन और अमेरिकी दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्था होने के साथ-साथ दो बड़े व्यापारिक साझेदार भी हैं.