नई दिल्ली: देश में कच्चे इस्पात का उत्पादन नवंबर में 2.8 प्रतिशत घटकर 89.34 लाख टन रहा. यह लगातार दूसरा महीना है जब कच्चे इस्पात का उत्पादन कम हुआ है. विश्व इस्पात संघ (वर्ल्डस्टील) ने अपनी ताजा रिपोर्ट में यह जानकारी दी. पिछले साल नवंबर में कच्चे इस्पात का उत्पादन 91.92 लाख टन था.

वैश्विक संगठन के अनुसार भारत में अक्टूबर 2019 में कच्चे इस्पात का उत्पादन 3.4 प्रतिशत घटकर 90.89 करोड़ टन था. एक साल पहले इसी महीने में उत्पादन 94.08 करोड़ टन था. रिपोर्ट के अनुसार वैश्विक स्तर पर इस्पात उत्पादन भी नवंबर महीने में एक प्रतिशत कम होकर 14.78 करोड़ टन रहा जो एक साल पहले इसी महीने में यह 14.94 करोड़ टन था. हालांकि दुनिया के सबसे बड़ा इस्पात उत्पादक देश चीन का उत्पादन बढ़ा है.

वर्ल्डस्टील के मुताबिक नवंबर में चीन का उत्पादन 4 प्रतिशत बढ़कर 8.03 करोड़ टन रहा जो एक साल पहले इसी महीने में 7.72 करोड़ टन था. जापान में कच्चे इस्पात का उत्पादन आलोच्य महीने में 10.6 प्रतिशत घटकर 77.43 लाख टन रहा जो नवंबर 2018 में 86.59 लाख टन था.

आंकड़ों के अनुसार अमेरिकी का उत्पादन नवंबर 2019 में 2.2 प्रतिशत घटकर 72.33 लाख टन रहा. एक साल पहले इसी महीने में 73.99 लाख टन कच्चे इस्पात का उत्पादन हुआ था. विश्व इस्पात संघ के सदस्यों की वैश्विक इस्पात उत्पादन में 85 प्रतिशत हिस्सेदारी है. इसमें 160 इस्पात उत्पादक, राष्ट्रीय और क्षेत्रीय इस्पात उद्योग संगठन और इस्पात शोध संस्थान शामिल हैं.

 

(इनपुट- एजेंसी)