Cryptocurrency Bill 2021: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने मंगलवार को कहा कि क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के गलत हाथों में जाने के जोखिम पर नजर रखी जा रही है. मंत्री ने यह भी कहा कि डिजिटल मुद्राओं (Digital Currency) के विज्ञापनों को रोकने का फिलहाल कोई निर्णय नहीं लिया गया है. वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की नियामक क्षमता और “बिल की प्रतीक्षा करें” पर व्यापक चर्चा हुई है. जिसमें कई अन्य आयामों पर भी चर्चा की गई है, जिसमें पुराने विधेयक पर फिर से काम किया जाना है और अब हम एक नए विधेयक पर काम करने की कोशिश कर रहे हैं.Also Read - Cryptocurrency: सिंगापुर ने भी क्रिप्टो प्लेयर्स को विज्ञापनों के माध्यम से जनता को नहीं लुभाने की दी चेतावनी

सीतारमण ने सोमवार को कहा था कि केंद्र के पास देश में बिटकॉइन को मुद्रा के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं है. उसने यह भी उल्लेख किया कि सरकार बिटकॉइन लेनदेन पर डेटा एकत्र नहीं करती है. Also Read - 'तीसरी लहर के बावजूद मजबूत हुई भारत की समग्र आर्थिक गतिविधि'

सरकार ने कहा था कि उसे भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) से ‘बैंक नोट’ की परिभाषा के तहत डिजिटल मुद्रा को शामिल करने का प्रस्ताव मिला है. Also Read - Budget 2022: एजुकेशन सेक्टर को समग्र बजट में से ज्यादा आवंटन की दरकार, शिक्षा के लिए 10% बजट बढ़ाए सरकार

अक्टूबर में आरबीआई ने सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (सीबीडीसी) का प्रस्ताव पेश किया था.

CBDC – डिजिटल या आभासी मुद्रा – मूल रूप से भारत में रुपया, फ़िएट मुद्राओं का डिजिटल संस्करण है.

इस बीच, आरबीआई ने मैक्रो-इकोनॉमिक और वित्तीय स्थिरता जोखिमों को प्रस्तुत करने वाली क्रिप्टोकरेंसी पर बार-बार चिंता जताई है.