Top Recommended Stories

Cryptocurrency: सिंगापुर ने भी क्रिप्टो प्लेयर्स को विज्ञापनों के माध्यम से जनता को नहीं लुभाने की दी चेतावनी

Cryptocurrency: सिंगापुर ने भी क्रिप्टो प्लेयर्स को विज्ञापनों के माध्यम से जनता को नहीं लुभाने की चेतावनी दी है. नए दिशानिर्देशों में, सिंगापुर के मौद्रिक प्राधिकरण ने कहा कि डिजिटल भुगतान टोकन या अधिक सामान्यत: क्रिप्टोकरेंसी के रूप में जाना जाता है. सेवा प्रदाताओं को सिंगापुर में आम जनता के लिए अपनी डीपीटी सेवाओं को बढ़ावा नहीं देना चाहिए.

Updated: January 18, 2022 4:39 PM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Manoj Yadav

cryptocurrency bitcoin
(FILE PHOTO)

Cryptocurrency: भारत के बाद, सिंगापुर ने अब क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) और डिजिटल टोकन (Digital Token) प्रदाताओं को आम जनता के लिए विभिन्न मीडिया प्लेटफार्मों के माध्यम से अपने डिजिटल टोकन का प्रचार या विज्ञापन नहीं करने की चेतावनी दी है. नए दिशानिर्देशों में, सिंगापुर के मौद्रिक प्राधिकरण (MAS) ने कहा कि डिजिटल भुगतान टोकन (DPT) या अधिक सामान्यत: क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) के रूप में जाना जाता है) सेवा प्रदाताओं को सिंगापुर में आम जनता के लिए अपनी डीपीटी सेवाओं को बढ़ावा नहीं देना चाहिए.

नए दिशानिर्देश उन बैंकों और भुगतान संस्थानों पर भी लागू होते हैं जो ऐसी सेवाएं प्रदान करते हैं. क्रिप्टोकरेंसी के हस्तांतरण और वॉलेट सेवाओं के प्रावधान को शामिल करने के लिए इनका और विस्तार किया जाएगा.

You may like to read

एमएएस सहायक प्रबंध निदेशक (नीति, भुगतान और वित्तीय अपराध) लू सीव यी ने कहा, “क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) का व्यापार अत्यधिक जोखिम भरा है और आम जनता के लिए उपयुक्त नहीं है. इसलिए डीपीटी सेवा प्रदाताओं को डीपीटी (DPT) के व्यापार को इस तरह से चित्रित नहीं करना चाहिए जो डीपीटी (DPT) में व्यापार के उच्च जोखिम को कम करता है और न ही विपणन गतिविधियों में संलग्न होता है, जो आम जनता को लक्षित करता है.”

डीपीटी सेवा प्रदाताओं में भुगतान संस्थान, बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान, साथ ही भुगतान सेवा अधिनियम (PS Act) के तहत आवेदक शामिल हैं.

प्राधिकरण ने चेतावनी दी कि क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करना ‘अत्यधिक जोखिम भरा’ है और आम जनता के लिए उपयुक्त नहीं है, क्योंकि क्रिप्टो की कीमतें तेज सट्टा झूलों के अधीन हैं.

प्राधिकरण ने सोमवार देर रात एक बयान में कहा, “एमएएस ने देखा है कि कुछ डीपीटी सेवा प्रदाता ऑनलाइन और भौतिक विज्ञापनों के माध्यम से या सार्वजनिक क्षेत्रों में भौतिक स्वचालित टेलर मशीनों (ATM) के प्रावधान के माध्यम से अपनी सेवाओं को सक्रिय रूप से बढ़ावा दे रहे हैं. यह उपभोक्ताओं को पूरी तरह से समझने के बिना आवेग पर डीपीटी व्यापार करने के लिए प्रोत्साहित कर सकता है.”

नए दिशानिर्देश स्पष्ट करते हैं कि डीपीटी सेवा प्रदाताओं को सभी प्रकार के विज्ञापनों के माध्यम से, पूरे मीडिया के साथ-साथ सोशल मीडिया प्रभावितों के माध्यम से डीपीटी सेवाओं के विपणन या विज्ञापन में संलग्न नहीं होना चाहिए.

भारत सरकार ने पिछले साल नवंबर में क्रिप्टो विज्ञापनों पर वाइल्ड रिटर्न का वादा करने पर चिंता जताई थी.

भारतीय क्रिप्टो खिलाड़ियों ने प्लेटफार्मों पर विज्ञापनों के साथ जनता पर बमबारी की. अपने मार्केटिंग खर्च को दोगुना कर दिया जब क्रिप्टोकरेंसी को अभी तक कानूनी निविदा के रूप में स्वीकार नहीं किया गया है और देश में कानूनी ढांचे और नियामक मानदंडों की कमी है.

इंटरनेट और मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) के एक हिस्से, ब्लॉकचैन और क्रिप्टो एसेट्स काउंसिल (BACC) के एक विज्ञापन में कॉइनस्विच कुबैर, कॉइनडीसीएक्स, वजीरएक्स और जेबपे जैसे उद्योग के खिलाड़ियों ने दावा किया था कि करोड़ों भारतीयों ने क्रिप्टो संपत्ति में अब तक 6 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया है.

इस बीच, आतंकवादी कृत्यों और ड्रग्स के लिए डार्क वेब पर डिजिटल सिक्कों के दुरुपयोग पर बढ़ती चिंताओं के बीच संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान बहुप्रतीक्षित ‘क्रिप्टोकरेंसी एंड रेगुलेशन ऑफ ऑफिशियल डिजिटल करेंसी बिल, 2021’ पेश नहीं किया गया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि सभी लोकतांत्रिक देशों को क्रिप्टोकरेंसी पर एक साथ काम करने और यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि यह गलत हाथों में न जाए.

Also Read:

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें Business Hindi की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

By clicking “Accept All Cookies”, you agree to the storing of cookies on your device to enhance site navigation, analyze site usage, and assist in our marketing efforts Cookies Policy.