नई दिल्ली: केंद्रीय कर्मचारियों को एक जुलाई से महंगाई भत्ता मिलने वाला है. इसके साथ ही ये भी कहा गया कि केंद्र के पेंशनधारकों के लिए महंगाई राहत एक जुलाई से फिर से शुरू होगी. ये दोनों ही संदेश सोशल मीडिया में वायरल हैं. इसके साह एक ऑफिस मेमोरेंडम भी वायरल हो रहा है. वित्त मंत्रालय ने अब इसकी सच्चाई बताई है.Also Read - 7th Pay Commission: सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाली है बड़ी खुशबरी! फिटमेंट फैक्टर से मूल वेतन में हो सकती है बंपर बढ़ोतरी

वित्त मंत्रालय ने कहा कि ये वायरल मैसेज फर्जी है. ऑफिस मेमोरेंडम भी फेक है. वित्त मंत्रालय ने कहा कि ऐसा कोई आदेश नहीं दिया गया है. वित्त मंत्रालय ने स्पष्ट करते हुए कहा कि वायरल मैसेज और एक पत्र में महंगाई भत्ता और केंद्र के पेंशनधारकों को महंगाई राहत मिलने का दावा झूठा है. इसे भारत सरकार या वित्त मंत्रालय ने जारी नहीं किया है. Also Read - सड़क पर खड़े वाहन की तस्वीर भेजें और पाएं 500 रुपए, आसान होगा तरीका

बता दें कि सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस पत्र से हलचल थी और कई लोग इसे सही मान बैठे तो कई वित्त मंत्रालय से इसे लेकर स्पष्टीकरण चाहते थे. अब वित्त मंत्रालय ने इसकी सच्चाई बता दी है कि ये दावा सच नहीं है. Also Read - किसान नेता राकेश टिकैत की हुंकार, कहा- बड़े आंदोलन के लिए तैयार रहे किसान, हरिद्वार में बुलाई महापंचायत