Delhi Airport COVID: कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन से विमानन सेक्टर बुरी तरह से प्रभावित हुआ. अब इससे उबरने के लिए उड्डयन क्षेत्र नई-नई तरकीबें अपना रहा है. जल्द ही दिल्ली एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाले यात्रियों को झटका लगने जा रहा है. 1 फरवरी से दिल्ली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट लिमिटेड (DIAL) हवाई यात्रियों पर एक नया शुल्क लगाने की तैयारी कर रहा है. संकट के प्रभाव से उबरने के लिए एयरपोर्ट इकोनॉमिक रेगुलेटरी अथॉरिटी (AERA) ने इसकी मंजूरी भी दे दी है. Also Read - Gangster Sukh Bikriwal दिल्ली एयरपोर्ट से गिरफ्तार, ISI के इशारे पर करवाता था टारगेट किलिंग

जानिए- कितना लगेगा शुल्क Also Read - खालिस्तान कमांडो फोर्स के आतंकी ने दी धमकी-आज Air India flights को लंदन नही पहुंचने देंगे

अगर कोई यात्री दिल्ली अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से उड़ान पकड़ने के लिए आता है, तो उसे अलग से शुल्क चुकाना पड़ेगा. एक फरवरी से यह अतिरिक्त चार्ज लगना शुरू हो जाएगा और 31 मार्च तक दिल्ली से बाहर उड़ान भरने वालों को इसके तहत 65.98 रुपये के साथ तमाम टैक्स चुकाने होंगे. Also Read - Independence Day : दिल्ली एयरपोर्ट पर इन उड़ानों के लैंड करने पर लगी रोक, NOTAM हुआ जारी

  • इसके बाद अप्रैल 2021 से इस चार्ज में कटौती की जाएगी.
  • वित्त वर्ष 2021-22 के लिए यह चार्ज 53 रुपये होगा.
  • वित्त वर्ष 2022-23 के लिए चार्ज 52.56 रुपये तय किया गया है.
  • वहीं वित्त वर्ष 2023-24 के लिए योत्रियों से 51.97 रुपये वसूला जाएगा.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, एयरपोर्ट अथॉरिटी ने दिल्ली एयरपोर्ट की उस मांग को नहीं माना है, जिसमें कहा गया था कि दिल्ली से बाहर जाने वाली घरेलू उड़ान के लिए 200 रुपये और विदेशी उड़ान पर 300 रुपये का चार्ज लगाया जाना चाहिए.

डीआईएएल (DIAL) ने विमानन मंत्रालय को लिखी चिट्ठी में अप्रैल 2020 से मार्च 2024 तक 3538 करोड़ रुपये के घाटे या कमी का अनुमान जताया था. सरकार को जानकारी दी कि अप्रैल से सितंबर 2020 के दौरान उन्हें 419 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. कोरोना वायरस महामारी की वजह से उन्हें वित्त वर्ष 2021 में 939 करोड़ रुपये के घाटे की आशंका है.

बता दें, पहले DIAL ने विमानन मंत्रालय से भी अपील की थी कि वो एयरपोर्ट्स इकोनॉमिक रेगुलेटरी अथॉरिटी को निर्देश दें कि एयरपोर्ट टैरिफ को तय करते समय कोरोना की वजह से उसके रेवेन्यू में आई गिरावट के प्रभाव को ध्यान में रखा जाए. अगर ऐसा नहीं किया गया तो पैसों की किल्लत का सामना करना पड़ सकता है, जिससे एयरपोर्ट के कामकाज को चलाए रखने में परेशानी आएगी.