न्यू यॉर्क. अमेरिकी शेयर बाजार में हफ्ते में दूसरी बार प्रमुख सूचकांक डॉव जोंस में 1 हजार अंकों से अधिक की गिरावट दर्ज हुई है. सीएनएन के मुताबिक, डॉव जोंस इंडिस्ट्रयल एवरेज गुरुवार के कारोबार में 1,033 अंकों यानी 4.15 फीसदी की गिरावट के साथ 23,860.46 पर बंद हुआ. यह अमेरिकी शेयर बाजार के इतिहास में दूसरी सबसे बड़ी गिरावट है. इससे पहले सोमवार को भी बाजार में डॉव जोंस 1,175 अंक टूट गया था.

नैस्डैक सूचकांक 274.82 अंकों यानी 3.90 फीसदी की गिरावट के साथ 6,777.16 पर बंद हुआ जबकि एसएंडपी 500 सूचकांक 100.66 अंकों यानी 3.75 फीसदी की गिरावट के साथ 2,581.00 पर बंद हुआ. विश्लेषकों ने ब्याज दरों में बढ़ोतरी को इसकी वजह बताया है. 

सरकार ने बिल्डरों से कहा, सस्ता मकान खरीदने वालों से नहीं वसूलें जीएसटी

सरकार ने बिल्डरों से कहा, सस्ता मकान खरीदने वालों से नहीं वसूलें जीएसटी

उथलपुथल वाले कारोबार में अमेरिकी शेयर बाजारों में 6 फरवरी को भी जोरदार गिरावट आई और इससे एशियाई बाजार भी अछूते नहीं रहे. यहां के प्रमुख शेयर सूचकांक डाउ जोंस इंडस्ट्रियल एवरेज में एक दिन में सबसे बड़ी गिरावट रही और अमेरिका की 30 बड़ी कंपनियों के बाजार मूल्यांकन में 4.6 प्रतिशत की कमी आई. डाउ जोंस टूटकर 24,345.75 अंक पर आ गया था.

वर्ष 2018 में हुए लाभ को डाउ ने एक दिन में गंवा दिया. एक समय डाउ 1,600 अंक टूटकर 23,923.88 अंक पर आ गया था. बाजार में जोरदार बिकवाली के बीच वाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप अमेरिकी अर्थव्यवस्था की दीर्घावधि की सेहत पर ध्यान दे रहे हैं और अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत है. वॉल स्ट्रीट में जोरदार गिरावट का असर एशियाई बाजारों में भी दिखा. निवेशकों में अमेरिका में कर्ज की लागत बढ़ने को लेकर घबराहट है. तोक्यो की अगुवाई में एशियाई बाजारों में गिरावट आई. शुरुआती कारोबार में जापान का बाजार पांच प्रतिशत से अधिक टूट गया. हांगकांग में करीब चार प्रतिशत की गिरावट आई, वहीं सिडनी तीन प्रतिशत टूटा.

भारत में बाजार में उथल पुथल बनी हुई है.

(भाषा-आईएएनएस से प्राप्त जानकारी के साथ)