E-Commerce Websites News: जैसे-जैसे प्रमुख ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म (E- Commerce Platform) त्योहारी सीजन में रिकॉर्ड राजस्व के लिए तैयार हो रही हैं, वहीं दूसरी तरफ देश में कई फर्जी और दुर्भावनापूर्ण ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म बढ़ गए हैं, जो लग्जरी घड़ियों से लेकर स्मार्टफोन एक्सेसरीज बेच रहे हैं. साइबर अधिकारी उन निर्दोष उपयोगकर्ताओं की रक्षा करने में विफल रहे हैं, जो भारतीयों को ठगने के लिए फेसबुक पेज विज्ञापन नेटवर्क का उपयोग कर ऑनलाइन स्कैम का शिकार हो रहे हैं.Also Read - ई-कॉमर्स सेक्टर में मच सकती है हलचल, Flipkart से अलग हो सकती है Walmart

वेलबाएमॉलडॉटकॉम एक ऐसा पोर्टल है जिसने हजारों भारतीय उपयोगकर्ताओं को ठगा है. यह पोर्टल अब अस्तित्व में नहीं है. इसने तकनीकी उत्पाद खरीदने के लिए ग्राहकों को मूर्ख बनाया है. केवल एक बार ऑर्डर करने और धन हस्तांतरित होने के बाद गायब हो गया है. Also Read - E-Commerce website are not showing MRP Despite of the government's order | सरकार के आदेश के बावजूद, ई-कॉमर्स साइटें MRP का नहीं करती है खुलासा: सर्वे

ऐसे ही एक साइबर फ्रॉड पीड़ित सुजीत वर्मा ने स्कैमएडवाइजर डॉट कॉम पर पोस्ट किया, “मैंने ऑनलाइन ऑर्डर किया और भुगतान किया लेकिन कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई और उनका ऑर्डर डिलीवर भी नहीं हुआ. वे फर्जी हैं.”

एक अन्य उपयोगकर्ता सुनील गुप्ता ने कहा, “मैंने एक एसएसडी (सॉलिड स्टेट ड्राइव) का ऑर्डर किया और ऑनलाइन भुगतान कर दिया. यह वेबसाइट फर्जी है लेकिन दुर्भाग्य से फेसबुक द्वारा समर्थित है और सभी विज्ञापन मेरे फेसबुक अकाउंट पर प्रदर्शित होते हैं. भुगतान करने के बाद, वेबसाइट से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली.”

गुड़गांव के एक उपयोगकर्ता आयुष ने हाल ही में 1,668 रुपये में स्मार्टफोन के लिए एक मिनी-पॉकेट चार्जर का ऑर्डर किया, केवल यह महसूस करने के लिए कि उसका शिपमेंट कभी नहीं आने वाला था. उन्होंने अब गुरुग्राम पुलिस साइबर क्राइम सेल में ई-कॉमर्स वेबसाइट के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.

वेलबायमॉल डॉट कॉम का यूआरएल अब उपयोगकर्ताओं को चीनी भाषा में एक संदेश पर ले जाता है, जिसमें लिखा होता है: साइट नहीं मिली. आपके अनुरोध को वेब सर्वर में संबंधित साइट नहीं मिली!”

कार्यप्रणाली सरल है: विज्ञापनदाता एक फेसबुक पेज/प्रोफाइल बनाता है और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने पेज के माध्यम से बिक्री शुरू करता है और यूजर्स को अपने पोर्टल पर ले जाता है.

एक बार जब वे अपने आदेशों के लिए भुगतान प्राप्त कर लेते हैं, तो वे उत्पादों को भेजने में देरी करते हैं और जब तक फेसबुक यह समझने के लिए अपनी फीडबेक प्रोसेस पूरा करता है कि विज्ञापनदाता वैध है या घोटाला, जालसाज तुरंत पैसा कमाते हैं और फेसबुक द्वारा साइबर अपराधी घोषित करने के बाद अपना संचालन बंद कर देते हैं.

साइबर विशेषज्ञों के अनुसार, यूजर्स की प्रतिक्रिया एकत्र करने और विज्ञापनदाता के पेज के “स्वास्थ्य” पर निर्णय लेने की फेसबुक प्रक्रिया में लगभग एक महीने का समय लगता है, जो साइबर अपराधियों के लिए उपयोगकर्ताओं को ठगने और भागने के लिए एक लंबी खिड़की है.

स्वतंत्र साइबर सुरक्षा शोधकर्ता राजशेखर राजहरिया ने आईएएनएस को बताया, “फेसबुक के पास एक विज्ञापनदाता को ‘फिट नहीं’ घोषित करने और उसके नियमों और शर्तों के तहत विज्ञापनदाता पर कार्रवाई करने के लिए धीमा ग्राहक फीडबैक प्रोसेस है. धोखेबाज इसका फायदा उठाते हैं और निर्दोष भारतीयों को ‘अस्वास्थ्यकर’ घोषित करने से पहले फेसबुक और इंस्टाग्राम पर ब्लॉक कर देते हैं.”

उन्होंने कहा कि ये घोटालेबाज फेसबुक पेजों के माध्यम से अपने उत्पादों का विज्ञापन करने, नकली और सस्ते चीनी उत्पादों को अपने ई-कॉमर्स पोर्टल्स और कॉन यूजर्स पर असली के रूप में बहुत कम पैसों में प्रदर्शित करते हैं.

इस तरह के कई नकली ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म अब चालू हैं क्योंकि भारत एक रिकॉर्ड त्योहारी सीजन से गुजर रहा है, जो लगभग 9.2 बिलियन डॉलर की बिक्री के लिए तैयार है. ये पिछले साल त्योहारी महीने की बिक्री में 6.5 बिलियन डॉलर के अनुमान से 42 प्रतिशत (वर्ष-दर-वर्ष) अधिक है.

केवल पहले सप्ताह (3 से 10 अक्टूबर) में, यह अनुमान है कि 6.4 बिलियन डॉलर की ऑनलाइन बिक्री होगी, जो त्योहारी महीने की कुल ऑनलाइन बिक्री का लगभग 70 प्रतिशत है.

राजहरिया ने कहा, “इस तरह के नकली ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के शिकार होने से बचने का एकमात्र तरीका फ्लिपकार्ट, अमेजन आदि जैसी प्रमुख कंपनियों पर भरोसा करना और उनके माध्यम से ऑनलाइन खरीदारी करना है.”

(With IANS Inputs)