Education Budget For 2020-21: आज देश का आम बजट 2020-21 को संसद में पेश किया जा रहा है. देश की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण इस बजट को पेश कर रही हैं. शिक्षा के क्षेत्र में सरकार कुछ पैसे ज्यादा निवेश करने वाली हैं. जहां बीते साल सरकार ने बजट के लिए 93,847.64 करोड़ रुपये का प्रस्ताव रखा था. वहीं इस साल शिक्षा क्षेत्र में 99300 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे. Also Read - Private Banks Can Get Govt Business: अब कर संग्रह, पेंशन भुगतान और लघु बचत योजनाओं जैसे काम भी करेंगे निजी बैंक

बता दें कि निर्मला सीतारमण ने बजट पेश करने के दौरान शिक्षा से जुड़ी कई अहम प्रस्ताव रखे. उन्होंने बताया कि शिक्षा में एफडीआई (FDI) को अनुमति देंगी. बता दें कि राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय (National Police University) की भी स्थापना की जाएगी. वहीं मार्च 2021 तक डिप्लोमा के लिए 150 नए संस्थानों के निर्माण को मंजूरी दी गई है.

वित्त मंत्री ने कहा कि फोरेंसिक यूनिवर्सिटी भी स्थापना की जाएगी. युवाओं को रोजगार दिलाने व उन्हें नौकरियों की हिसाब से प्रशिक्षित करने के लिए कौशल विकास पर ध्यान दिया जाएगा. कौशल विकास पर सरकार 3000 करोड़ रुपये खर्च करेगी. साथ ही गरीब छात्रों के लिए ऑनलाइन डिग्री के कार्यक्रम का भी प्रस्ताव रखा गया है. अंतरिम बजट 2019 में कुल 93,847.64 करोड़ रुपये की कुल राशि के साथ शिक्षा बजट में 10 प्रतिशत की वृद्धि की घोषणा की गई.