नई दिल्ली: रुपए की कीमत में सुधार का अनुमान भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए बड़ी खुशखबरी साबित हो सकता है. विदेशी विनिमय बाजार में इस साल बड़ा नुकसान झेल चुके रुपए के लिए बुरा दौर खत्म हो गया दिखता है और यह दिसंबर तक दोबारा मजबूत होकर प्रति अमेरिकी डॉलर 67-68 के दायरे में आ सकता है. एचडीएफसी बैंक के एक अर्थशास्त्री ने यह अनुमान जताया है. इस समय रुपए की विनिमय दर 70 रुपए प्रति डॉलर के आसपास चल रही है.

आप पर भी पड़ने लगी कमजोर रुपये की मार, इसी हफ्ते से 3 हजार रुपये तक महंगे हो जाएंगे टीवी और फ्रिज

बता दें कच्चे तेल के दाम में उछाल तथा प्रमुख मुद्राओं के समक्ष अमेरिकी डॉलर की मजबूती से भारत के चालू खाते के बढ़ने की चिंताओं के बीच रुपए पर दबाव बढ़ गया था. 16 अगस्त को डॉलर की दर पहली बार 70 रुपए के पार चली गई थी.

रुपया फिर 70 के पार, शुरुआत में डॉलर के मुकाबले 27 पैसे गिरा

एचडीएफसी बैंक की अर्थशास्त्री (भारत) साक्षी गुप्ता ने कहा, ‘बाजार में बहुत उतार चढ़ाव होने के कारण कुछ एक घटनाएं अब भी हो सकती है. ऐसी घटनाओं को छोड़ दे तो निश्चित रूप से ऐसा लग लगता है कि रुपया अपने सबसे कठिन दौर से निकल आया है. हमारा अनुमान है कि सितंबर के अंत तक रुपए की उचित दर करीब 68-69 के आस पास रहेगी और इसी स्तर पर उसमें स्थिरता आ जाएगी.” उन्होंने कहा कि डॉलर के चढ़ने का मौजूदा सिलसिला सितंबर के अंत शांत हो चुकी होगी और वह रुपए के लिए अनुकूल होगा.

रात 9 बजे के बाद एटीएम में नकदी नहीं डाली जाएगी, 24 घंटे कैश मिलने में हो सकती है दिक्कत

एचडीएफसी बैंक की अर्थशास्त्री का मानना है कि अमेरिका में नवंबर में होने वाले मध्यावधिक चुनाव से पहले बनने वाले माहौल तथा वहां राजकोषीय और चालू खाते के घाटे की समस्या उभरने से डालर में तेरी का दौर ठंडा पड़ जाएगा. उनका कहना है कि तुर्की और अन्य उभरती अर्थव्यवस्थाओं की मुद्राओं की विनिमय दर में उथल पुथल और अमेरिका व चीन के बीच के प्रशुल्क युद्ध के कारण रुपए में भी अभी कुछ उतार चढ़ाव दिख सकता है पर इस दौरान भारतीय रिजर्व बैंक भी अपने तरफ से रुपए की स्थिरता के लिए प्रयास जरूर करेगा.

एचडीएफसी बैंक की एक्सपर्ट गुप्ता ने कहा कि चालू वित्त वर्ष की आखरी तिमाही में (अगले वर्ष मार्च के अंत तक) राजनीतिक जोखिम के कारण हमें रुपए फिर उतार चढ़ाव दिख सकता है. अगले साल भारत में आम चुनाव होने हैं. साक्षी गुप्ता का अनुमान है कि इस साल दिसंबर के अंत तक रुपया प्रति डालर 67-68 के बीच रहेगा. अगले साल मार्च के अंत तक यह 68-68.5 के आप पास होगा.