नई दिल्ली. दुनियाभर के शेयर बाजारों में आई भारी गिरावट से सोने व चांदी जैसी महंगी धातुओं के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ा है. जहां एक तरफ निवेशकों के करोड़ों रुपये डूब गए ऐसी स्थिति में भी ये एक बार फिर साबित हो गया कि सोना सबसे सुरक्षित निवेश है. मार्केट में सोने व चांदी के वायदे में जोरदार तेजी का रुख बना हुआ है. मजबूत विदेशी संकेतों और घरेलू शेयर बाजार में आई गिरावट के कारण भारतीय वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर सोने व चांदी में शुरुआती कारोबार में जोरदार तेजी देखी गई। सोने की कीमतों में आए उछाल ने बीते एक महीने की गिरावट की रिकवरी कर ली है. बाजार के जानकारों का कहना है कि दुनियाभर में शेयर बाजार में गिरावट के बीच सोना एक बार फिर सबसे सुरक्षित निवेश माना जा रहा है. Also Read - Gold/Silver Price Today 19 September: सोने-चांदी की कीमत में एक हफ्ते में आई तेजी, जानिये आपके शहर में क्या है रेट, खरीदने का है सही समय?

अमेरिकी शेयर बाजार में भारी गिरावट से निवेशकों का रुझान सोने व चांदी में बढ़ा है जिससे वापस आई तेजी का सिलसिला अभी जारी है. शेयर बाजार में वैश्विक गिरावट के बीच कच्चे तेल में गिरावट के साथ कारोबार देखा गया और कच्चे तेल की कीमत एक महीने के न्यूमतम स्तर पर पहुंच गई. लिहाजा, वैश्विक गिरावट में शेयर, करेंसी और कच्चे तेल के बीच सिर्फ सोना ही तेज कारोबार करते हुए देखा गया. Also Read - Gold Prices Today 19 Sepetember 2020: सोने के भाव में आई तेजी, प्रति दस ग्राम के लिए देने होंगे इतने रुपये, जानें नया भाव

सोने की इस मजबूती के बाद वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल ने उम्मीद जाहिर की कि आने वाले दिनों में सोने की मांग में तेजी देखने को मिलेगी लिहाजा निवेश के हिसाब से सोना एक बेहतर विकल्प साबित होगा. जनवरी 2018 में भारत में करीब 30 टन सोने का इंपोर्ट हुआ जो पिछले साल के जनवरी में 47 लाख टन के आसपास था. बीते साल 2017 में भारत ने करीब 700 टन सोने का इंपोर्ट किया था. वहीं चाइना गोल्ड एसोसिएशन के मुताबिक चीन में सोने की खपत लगातार पांचवें साल 2017 में दुनिया में सबसे ज्यादा 10,89.1 टन दर्ज की गई है. Also Read - Gold Price Today 18 September 2020: सोने में आई इस सप्ताह की सबसे ज्यादा गिरावट, वीकेंड में और होगा कमजोर! जानें आज का भाव