नयी दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक सुस्ती बढ़ने की चर्चा के बीच बृहस्पतिवार को कहा कि स्थिति सुधर रही है. चीजें आगे बढ़ रही हैं. त्योहारी मौसम में खपत बढ़ने के साथ दूसरी छमाही में आर्थिक गतिविधियों के पटरी पर लौटने की उम्मीद है.

 

सीतारमण ने निजी क्षेत्र के बैंकरों, वित्तीय संस्थानों के साथ यहां हुई बैठक के बाद कहा कि मैंने किसी से नकदी की समस्या होने के बारे में नहीं सुना है.” अर्थव्यवस्था में सुस्ती के लिये बाजार में नकदी की तंगी को बड़ी अड़चन माना जा रहा है. वित्त मंत्री ने निजी क्षेत्र के बैंकरों के हवाले से कहा कि वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री में गिरावट चक्रीय है. धारणा की वजह से यात्री वाहनों की बिक्री कम हुई है. उन्होंने कहा कि सस्ते मकानों की योजना के लिए ऋण की अच्छी मांग है. बैंकरों ने इसकी सीमा 45 लाख रुपये से बढ़ाकर 50 लाख रुपये करने की मांग की है.

आरबीआई ने पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक में निकासी सीमा 10,000 रुपये तक बढ़ाई

खुले में बैठकर बांटेंगे लोन
बैठक के बाद वित्त सचिव ने कहा कि ऋण देने के लिए निजी क्षेत्र के बैंक भी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के साथ 400 जिलों में खुले में बैठकर रिण वितरण कार्यक्रम से जुड़ेंगे. इसके तहत 250 जिलों में पहले चरण का संपर्क अभियान तीन से सात अक्टूबर 2019 तक आयोजित होगा.