Fiscal Deficit: भारत का अप्रैल-अक्टूबर बजटीय राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) वित्त वर्ष 2022 के लक्ष्य के 36.3 प्रतिशत पर पहुंच गया है. मंगलवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, केंद्र सरकार का राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) अक्टूबर के अंत में वित्त वर्ष 2021-22 के सालाना बजटीय लक्ष्य का 36.3 प्रतिशत रहा. लेखा महानियंत्रक (CGA) द्वारा प्रस्तुत आंकड़ों के अनुसार, राजकोषीय घाटा – राजस्व और व्यय के बीच का अंतर – अप्रैल-अक्टूबर 2021-22 की अवधि के लिए 547,026 करोड़ रुपये या बजटीय अनुमान (बीई) का 36.3 प्रतिशत रहा है.Also Read - Economic Survey: आर्थिक सर्वेक्षण होता क्या है? कितना अहम होता है बजट पूर्व संसद में प्रस्तुत किया जाने वाला यह दस्तावेज

वित्त वर्ष 2022 का घाटा 15.06 लाख करोड़ रुपये आंका गया है. इसके अलावा, सीजीए के आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले वित्त वर्ष के इसी महीने के दौरान राजकोषीय घाटा उस वर्ष के लक्ष्य का 119.7 प्रतिशत था. Also Read - IMF ने 2022 में भारत की वृद्धि दर का अनुमान 9 प्रतिशत किया, चीन 4.8%, यूएस 4% फीसदी पर रहेंगे

केंद्र सरकार का कुल खर्च 1,826,725 करोड़ रुपये (बीई अनुमान का 52.4 प्रतिशत) था, जबकि कुल प्राप्तियां (रिसिप्ट्स) 1,279,699 करोड़ रुपये (बीई का 64.7 प्रतिशत) दर्ज किया गया है. Also Read - भारत के आर्थिक सुधार को अभी स्थायित्व प्राप्त करना बाकी: ICRA

(With IANS Inputs)