Flight Booking: कोरोना संकट के बाद टोटल लॉकडाउन के बीच अब चीजें धीरे-धीरे खुलने लगी हैं. सरकार ने सीमित तरीके से ट्रेन सेवाएं शुरू कर दी हैं. अब सभी की नजर हवाई सेवा पर है. माना जा रहा है कि 17 मई को लॉकडाउन खत्म होने के बाद सरकार धीरे-धीरे एयर ट्रेवल को भी मंजूरी देगी. दरअसल, एयरलाइंस कंपनियों ने अपने ऑनलाइन ट्रेवल एजेंट्स को 18 के बाद बुकिंग के लिए तैयार रहने को कहा है. Also Read - इंडिगो, एयर एशिया ने ट्रैवल एजेंटों को टिकट रिफंड देना शुरू किया: ट्रैवल पोर्टल

इस बीच भारत सरकार ने एयर ट्रेवल के नियमों में बड़ा बदलाव कर दिया है. विमानन सुरक्षा विनियामक (बीसीएएस) ने बुधवार को कहा कि हवाईअड्डों पर सीआईएसएफ के कर्मी विमान में सवार होने से पूर्व जांच के दौरान किसी भी यात्री के बोर्डिंग पास पर अब मोहर नहीं लगाएंगे और यात्री अब उड़ान में अपने साथ 350 मिलीलीटर हैंड सेनेटाइजर लेकर जा सकते हैं. Also Read - Domestic Flight Guidelines: हवाई यात्रा के ये हैं नए नियम, इनका पालन करना सभी के लिए है अनिवार्य

ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन (बीसीएएस) ने अपने आदेश में कहा कि हर हवाईअड्डा संचालक को यह सुनिश्चित करना होगा कि पीईएससी क्षेत्र में उपयुक्त ऊंचाई पर पर्याप्त सीसीटीवी कैमरे लगे हों, ताकि यात्री और उसके बोर्डिंग पास की पहचान रिकार्ड की जा सके. Also Read - Domestic Flight Guidelines: हवाई यात्रा से पहले क्या करें क्या न करें, इन नियमों को जानकर यात्रा करना आपके लिए होगा फायदेमंद

अबतक सीआईएसएफ के 13 से अधिक ऐसे कर्मी कोविड-19 संक्रमित पाये गये हैं जो दिल्ली, मुम्बई और अहमदाबाद हवाईअड्डों पर तैनात थे.

बीसीएएस ने कहा कि यह आदेश कोविड-19 महामारी की स्थिति और उसे स्पर्श/सपंर्क के माध्यम से फैलने से रोकने के लिए उठाये जा रहे कदमों के तहत जारी किया गया है.

दूसरे आदेश में कहा गया है, ‘इसलिए यह तय किया गया है कि विमान में सवार हो रहे यात्रियों को अपने हैंड बैग में या व्यक्तिगत रूप से अपने साथ 350 मिलीलीटर तक तरल हैंड सेनेटाइजर ले जाने दिया जाएगा.’ आम तौर पर 100 मिलीलीटर से अधिक तरल पदार्थ यात्रियों के हैंड बैग में ले जाने की इजाजत नहीं है.

(इनपुट भाषा)