FM Nirmala Sitharaman Press Conference: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आर्थिक पैकेज की घोषणा के बाद इसकी जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि हमने मुश्किल समय में लोगों की मदद की. देश के गरीबों और किसानों का ख्याल रखा है. पीएम मोदी की सोच के मुताबिक हमने हर वो काम किया, जिससे लोगों को मदद मिलती. अगले कुछ दिन तक पैकेज से जुड़ी जानकारी दी जाती रहेगी. सूक्ष्म लघु एवं मझोले उद्योगों के लिए प्रेस कांफ्रेंस में बड़ी घोषणाएं की गई हैं. Also Read - कोरोना से बिगड़े आर्थिक हालात, चीन को छोड़कर उभरती अर्थव्यवस्थाओं में चालू वित्त वर्ष में 4.5 प्रतिशत की आएगी गिरावट : फिच रेटिंग्स

– 15 हज़ार से कम सैलरी वालों को सरकारी सहायता दी जाएगी. ऐसे लोग पीएफ से अपना पैसा ले सकते हैं, ताकि उनके हाथ में रुपए रहेंगे.
– सैलरी का 24 फ़ीसदी पीएफ सरकार जमा करेगी.
– सूक्ष्म लघु एवं मझोले उद्योगों (MSME- Ministry of Micro, Small and Medium Enterprises) के लिए बड़ा कदम उठाया गया है. 3 लाख करोड़ का बिना गारंटी के लोन दिया जाएगा.
– इस फंड से छोटे, लघु और कुटीर उद्योग काम शुरू कर सकेंगे और इससे लोगों को सैलरी भी दे पाएंगे.
– MSME के लिए 10 हज़ार करोड़ का फंड्स ऑफ़ फंड दिया जाएगा. इससे कारोबार की क्षमता बढ़ेगी. शेयर बाज़ार में लिस्टिंग में मदद करेगा.
– ज्यादा निवेश के बाद भी MSME का दर्जा ख़त्म नहीं होगा.
– सूक्ष्म लघु एवं मझोले उद्योगों (एमएसमई) के बिना गारंटी के स्वचालित तीन लाख करोड़ रुपये का कर्ज, 45 लाख MSME इकाइयों को लाभ.
– 4 साल के लिए बिना गारंटी के लोन दिया जाएगा. Also Read - निर्मला सीतारमण का राहुल गांधी पर निशाना, कहा- मजदूरों से गपशप करने बैठ गए, क्या मैं इस पर बोल भी नहीं सकती?

– निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमारी सरकार लोगों से बातचीत में भरोसा रखती है. हमने गरीबों-किसानों के खातों में रुपए पहुंचाए गए.
– 41 करोड़ खातों में सीधे तौर पर रुपए भेज कर मदद की गई.
– तीन महीने के दौरान किसानों और गरीबों की मदद की.
– जिनके पास राशन कार्ड नहीं थे, उन्हें भी राशन मिला.
– लोगों को दालें और चावल दिए गए.
– 18 हज़ार करोड़ रुपए रिफंड से दिए गए.- वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि हमने दुनिया की इस दौरान में भी दवाई भेजकर मदद की. Also Read - राहत पैकेज की पांचवीं किस्त: पीएम मोदी बोले- गाँव की अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करेंगे वित्त मंत्री के ये उपाय