नई दिल्ली: केंद्रीय वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 125 रुपए का एक सिक्‍का जारी किया है. इस सिक्के का वजन 35 ग्राम है. इसमें 50 प्रतिशत चांदी, 40 प्रतिशत तांबा, पांच प्रतिशत निकल और पांच प्रतिशत जस्ता है.यह सिक्का 125 रु. का पश्चिमी देशों में ‘योग पिता’ के तौर पर जाने जाने वाले योगदा सत्संग सोसायटी ऑफ इंडिया और सेल्फ-रियलाइजेशन फेलोशिप के संस्थापक संस्थापक परमहंस योगानंद की 125वीं जयंती पर जारी क‍िया गया है.

केंद्रीय वित्‍त मंत्री ने मंगलवार को राजधानी में प्रसिद्ध योगी औरपरमहंस योगानंद की 125वीं जयंती पर एक विशेष स्मारक सिक्का जारी किया. इस सिक्के के पीछे की तरफ परमहंस योगानंद का चित्र, हिंदी और अंग्रेजी भाषा में ‘परमहंस योगानंद की 125वीं जयंती’ और उनका जीवनकाल वर्ष उकेरा गया है.

सिक्के के सामने की तरफ भारत सरकार का ‘अशोक चिन्ह’, हिंदी में ‘भारत’ और अंग्रेजी में ‘इंडिया’ के साथ ‘125 रुपए’ अंकित किया गया है. संस्‍था की विज्ञप्ति के मुताबिक, इस सिक्के का वजन 35 ग्राम है. इसमें 50 प्रतिशत चांदी, 40 प्रतिशत तांबा, पांच प्रतिशत निकल और पांच प्रतिशत जस्ता है.

इस मौके पर वित्‍तमंत्री सीतारमण ने कहा कि योगी जी ने एक सार्वभौम संदेश दिया जो किसी विशेष विचारधारा या धर्म पर आधारित नहीं था. उन्होंने अपने संदेश को पूरी दुनिया के लिए स्वीकार्य बनाया. भारत को अपने ऐसे सपूत पर गर्व है जिसने हमारे मन-मस्तिष्क को शांति और सद्भाव से भर दिया.

योगोदा सत्संग सोसायटी ऑफ इंडिया के वर्तमान अध्यक्ष स्वामी चिदानंद गिरि ने एक बयान में कहा, ‘‘परमहंसजी ने पहले ही देख लिया था कि ईश्वर की चेतना के साथ एकरूप होने पर ध्यान में उनके साथ संपर्क में आती हैं. इससे उनकी संतानें (मनुष्य) भी एक दूसरे के साथ अपने संबंध को बेहतर ढंग से समझेंगी. इस प्रकार वह सम्पूर्ण विश्व में अधिक सामंजस्य का युग लाएंगी.

वित्त मंत्री द्वारा इस संस्मरणात्मक सिक्के को जारी करना सभी प्राणियों के ह्रदयों में दिव्य आत्मा (परमात्मा) का बोध करने के इस लक्ष्य की ओर मानवता की यात्रा में एक मील के पत्थर का समयोचित सम्मान है. इस कार्यक्रम में वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर, संस्कृति सचिव अरुण गोयल और स्वामी विश्वानंद गिरि मौजूद रहे.