नई दिल्ली: संसद में शुक्रवार को पेश आर्थिक समीक्षा 2019-20 में कुछ आंकड़े विकिपीडिया से भी लिए गए हैं. हालांकि विकिपीडिया को सूचना का विश्वसनीय स्रोत नहीं माना जाता है. आर्थिक समीक्षा में विकिपीडिया के अलावा ब्लूमबर्ग, इक्रा, सीएमआईई, भारतीय प्रबंधन संस्थान-बेंगलुरू, फोर्ब्स और बीएसई जैसे निजी संस्थानों के भी आंकड़े लिए गए हैं.Also Read - रेलवे के 91 हज़ार पद ख़त्म करने की रिपोर्ट पर राहुल गांधी ने कहा- मोदी सरकार को ये महंगा पड़ेगा

विकिपीडिया एक मुफ्त ऑनलाइन सूचना कोश (एन्साइक्लोपीडिया) है. दुनियाभर के लोग स्वयंसेवा करते हुए इसमें सूचना डालते और उसका संपादन करते हैं. इस साइट का परिचालन विकिमीडिया फाउंडेशन करता है. मंच पर किसी के भी सूचना संपादित करने की वजह से इसे विश्वनीय स्रोत नहीं माना जाता है. इसके अलावा समीक्षा में हेरिटेज डॉट ओआरजी, फ्रेजर इंस्टीट्यूट डॉट ओआरजी और एंबिट कैपिटल से भी आंकड़े लिए गए हैं. Also Read - वीर सावरकर की बात कांग्रेस ने मानी होती तो देश विभाजन की त्रासदी से बच गया होता: सीएम योगी

समीक्षा में अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष, विश्वबैंक, भारतीय रिजर्व बैंक, कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय, भारतीय दिवाला एवं ऋणशोधन अक्षमता बोर्ड, सिबिल, राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय, उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, संयुक्तराष्ट्र और सिडबी से भी आंकड़े जुटाए गए हैं. आर्थिक समीक्षा में भगवद गीता, ऋगवेद, कौटिल्य के अर्थशास्त्र, तमिल संत तिरुवल्लुवुर की शिक्षाओं ‘द तिरुकुरल’ और एडम स्मिथ की पुस्तक ‘एन इंक्वायरी इन टू नेचर एंड कॉजेज ऑफ द वेल्थ ऑफ नेशंस’ के उद्धरण भी दिए गए हैं. Also Read - राज्यसभा में कांग्रेस की राह आसान नहीं, सीनियर नेताओं की नाराजगी आ सकती है सामने; छत्तीसगढ़ सीएम सोनिया गांधी से करेंगे मुलाकात

इस पर कांग्रेस प्रवक्ता गौरभ वल्लभ ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, “वाह जी वाह,आर्थिक सर्वेक्षण जिसके आधार पर सरकार अपनी नीतियाँ बनाती है, उसका आधार Wikipedia है. Wikipedia एक ऑनलाइन encyclopedia है जिसको ग़ैर पेशेवर लोगों द्वारा लिखा व बदला जाता है. जब ज्ञान व degree Whatsapp से ली जाती हो तो देश की नीतियाँ Wikipedia के आधार पर ही बनेंगी.”

(इनपुट भाषा)