नई दिल्ली: केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल के दाम में 2.50 रुपये की कमी के दो दिन बाद शनिवार को पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ गए. गुरुवार को केंद्र सरकार और बीजेप शासित राज्यों ने पेट्रोल-डीजल की कीमतो में कमी की थी. दिल्ली में पेट्रोल के दाम में 18 पैसे की वृद्धि हुई और यह 81.68 रुपये लीटर मिल रहा है. वहीं डीजल के दाम में 29 पैसे की वृद्धि हुई और यह 73.24 रुपये प्रति लीटर पर मिल रहा है. मुंबई में पेट्रोल 18 पैसे महंगा हुआ और यह 87.15 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है. जबकि डीजल के दाम में 70 पैसे की गिरावट आई है और यह 76.75 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है. Also Read - Petrol Price: वित्त वर्ष 2020-21 में एक्साइज ड्यूटी कलेक्शन 48 फीसदी बढ़ा, जानिए- उत्पाद शुल्क में कैसे हुई वृद्धि

उपभोक्ताओं को राहत देने के लिए केंद्र ने गुरुवार को डीजल-पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में 1.50 रुपये की कमी की घोषणा की थी. इसके अलावा उसने इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी), भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) एवं हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (एचपीसीएल) को पेट्रोलियम पदार्थों का भाव एक-एक रुपये प्रति लीटर कम करने और उसका बोझ खुद वहन करने का निर्देश दिया था. Also Read - Petrol Diesel Latest Price : एटीएफ की कीमतों में तीन प्रतिशत की बढ़ोतरी, जानें पेट्रोल-डीजल की नई कीमत

कच्चे तेल की बढ़ती कीमत से परेशान मोदी सरकार ने रूस के सामने भी मुद्दा उठाया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अपनी बैठक के दौरान कच्चे तेल की बढ़ती कीमत और घरेलू अर्थव्यवस्था पर उसके असर का मुद्दा उठाया. Also Read - Petrol price hike in India: देश में 69 फीसदी लोगों की राय, सस्ती दर पर मिलें डीजल-पेट्रोल, रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं तेल के दाम

पुतिन ने उन्हें आश्वस्त किया कि उनका देश वैश्विक कीमतों को स्थिर करने के लिए पेट्रोलियम का उत्पादन बढ़ा देगा.ईरान पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों को देखते हुए तेल की वैश्विक कीमतों में तेज वृद्धि से जुड़ी आशंकाओं के बीच इस मुद्दे पर चर्चा हुई. अधिकारी ने बताया कि मोदी ने रूसी राष्ट्रपति के साथ बातचीत के दौरान रक्षा क्षेत्र में ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम पर जोर भी दिया.