नई दिल्ली: दुनियाभर के शेयर बाजारों में आई भारी गिरावट से सोने व चांदी जैसी महंगी धातुओं के प्रति निवेशकों का रुझान बढ़ा है, जिससे पीली व सफेद धातुओं के वायदे में जोरदार तेजी का रुख बना हुआ है. मजबूत विदेशी संकेतों और घरेलू शेयर बाजार में आई गिरावट के कारण भारतीय वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज पर मंगलवार को सोने व चांदी में शुरुआती कारोबार में जोरदार तेजी देखी गई. अमेरिका में जनवरी में नौकरियों के आंकड़ों में इजाफा होने से सोमवार को शुरुआती कारोबार में डॉलर में मजबूती आने से सोने में थोड़ी नरमी रही, लेकिन अमेरिकी शेयर बाजार में भारी गिरावट से निवेशकों का रुझान सोने व चांदी में बढ़ा जिससे वापस आई तेजी का सिलसिला अभी जारी है. Also Read - Share market: शेयर बाजार में मुनाफावसूली जारी, सेंसेक्स 470 अंक नीचे बंद, निफ्टी 14,300 से नीचे फिसला

Also Read - Stock Market Today Share Market Live NSE BSE Sensex: ऊपरी स्तरों से बिकवाली से फिसला बाजार, सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट

एमसीएक्स पर सोने के फरवरी सौदा में तेजी Also Read - नए साल में नई उंचाई पर शेयर बाजार, सेंसेक्स 150 अंक चढ़ा, निफ्टी 14,000 के पार

भारतीय समयानुसार करीब 10.30 बजे सुबह एमसीएक्स पर सोने का फरवरी सौदा पिछली क्लोजिंग के मुकाबले 275 रुपये व 0.91 फीसदी की बढ़त के साथ 30,568 रुपये प्रति दस ग्राम पर कारोबार कर रहा था. इससे पहले 30,350 रुपये पर खुलने के बाद सोने का सौदा 30,714 रुपये तक उछला. वहीं, चांदी का मार्च सौदा 412 रुपये या 1.07 फीसदी की बढ़त के साथ 38,965 रुपये प्रति किलोग्राम पर कारोबार कर रहा था जबकि इसमें 38,712 रुपये से शुरुआत करने के बाद 39,114 रुपये का उछाल आया.

सरकार की सफाई, बजट नहीं इन वजहों से गिर रहा शेयर बाजार

सरकार की सफाई, बजट नहीं इन वजहों से गिर रहा शेयर बाजार

उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार कॉमेक्स पर सोने के अप्रैल एक्सपायरी सौदे में 0523 जीएमटी पर पिछले कारोबारी सत्र के मुकाबले 9.00 डॉलर या 0.67 फीसदी की बढ़त के साथ 1,345.50 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था. इससे पहले सोने के इस सौदे में 1,349.10 डॉलर प्रति औंस का उछाल आया. हाजिर सोना तीन डॉलर से ज्यादा की बढ़त के साथ 1,342.79 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रहा था. चांदी के मार्च सौदे में एक फीसदी से ज्यादा की बढ़त के साथ 16.85 सेंट प्रति औंस जबकि इससे पहले 16.95 सेंट का उछाल आया. छह प्रमुख विदेशी मुद्राओं की तुलना में अमेरिकी मुद्रा डॉलर मूल्य आंकने वाला डॉलर सूचकांक 0.04 फीसदी की कमजोरी के साथ 89.53 के स्तर पर बना हुआ था. हालांकि दिसंबर 2014 के बाद 26 जनवरी को सूचकांक में आई सबसे ज्यादा गिरावट 88.58 के स्तर से बढ़त देखी जा रही है.

बिटक्वाइन में भी गिरावट

गौरतलब है कि क्रिप्टोकरेंसी जैसे बिटक्वाइन में भी गिरावट का दौर जारी है लिहाजा महंगी धातुओं को सपोर्ट मिल रहा है. इसके अलावा भू-राजनीतिक तनाव सोने को सपोर्ट करने वाला एक महत्वपूर्ण कारक रहा है. हालांकि वर्ष 2018 की शुरुआत में सोने के भाव में अस्थिरता देखी जा रही है, जो काफी हद तक डॉलर की अस्थिरता से प्रेरित है. जब-जब डॉलर में गिरावट आई है सोने में तेजी आई है. 12 दिसंबर को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोना 1,236 डॉलर प्रति औंस पर था जो 25 जनवरी को बढ़कर 1,365 डालर हो गया. इस बीच करीब 130 डॉलर की तेजी आई है. इसके बाद दो फरवरी को फिसलकर 1,328 डॉलर तक आ गया था. अस्थिरता का यह सिलसिला डॉलर इंडेक्स में बढ़त के कारण है जो एक साथ-डॉलर और कीमती धातु दोनों को सपोर्ट कर रहा है.

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर विजय केडिया ने बताया कि जनवरी में सोने का भाव ऊंचा होने से भारत का स्वर्ण आयात नरम रहा और आयात 17 महीने के निचले स्तर पर आ गया गया. जनवरी 2018 में भारत में करीब 30 टन सोने का आयात हुआ जो पिछले साल के जनवरी में 47 लाख टन के आसपास था. बीते साल 2017 में भारत ने करीब 700 टन सोने का आया किया. वहीं, चीन में सोने की खपत लगातार पांचवें साल 2017 में दुनिया में सबसे ज्यादा 10,89.1 टन दर्ज की गई है. यह आंकड़ा चाइना गोल्ड एसोसिएशन का है.