नई दिल्ली: अमेरिकी डॉलर में आई मजबूती से शुक्रवार को अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोने और चांदी की चमक फीकी पड़ गई, जिससे भारतीय बाजार में भी सोने का भाव एक फीसदी से ज्यादा टूटा, जबकि चांदी में तीन फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई. अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सोना एक सप्ताह बाद 1,500 डॉलर प्रति औंस से नीचे लुढ़का है. जानकार बताते हैं कि अमेरिकी डॉलर में आई मजबूती और अगले महीने चीन में लंबा अवकाश होने के कारण मुनाफावसूली बढ़ने से सोने और चांदी में गिरावट आई है. हालांकि कमोडिटी बाजार विश्लेषक बताते हैं कि त्योहारी सीजन शुरू होने से पहले सोने और चांदी में गिरावट आने से खरीदारी जोर पकड़ेगी.

घरेलू वायदा बाजार मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) पर रात आठ बजे सोने के अक्टूबर अनुबंध में 376 रुपए यानी 0.99 फीसदी की गिरावट के साथ 37,418 रुपए प्रति 10 ग्राम पर कारोबार चल रहा था. वहीं, चांदी के दिसंबर अनुबंध में 1,334 रुपए यानी 2.88 फीसदी की गिरावट के साथ 45,046 रुपए प्रति किलोग्राम पर कारोबार चल रहा था. अंतर्राष्ट्रीय वायदा बाजार कॉमेक्स पर सोने के दिसंबर वायदा अनुबंध में 17.05 डॉलर यानी 1.13 फीसदी की गिरावट के साथ 1,498.15 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था, जबकि कारोबार के दौरान सोने का भाव 1,493.45 डॉलर प्रति औंस तक लुढ़का. वहीं, चांदी के दिसंबर अनुबंध में 2.34 फीसदी की गिरावट के साथ 17.49 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार चल रहा था.

SBI क्रेडिट कार्ड होल्डर ध्यान दें, एक अक्टूबर से पेट्रोल-डीजल की खरीद पर नहीं मिलेगा कोई कैशबैक

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि चीन सोने और चांदी का बड़ा खरीदार है और वहां अगले महीने के आरंभ में पांच दिन का राष्ट्रीय अवकाश रहेगा जिसके कारण सोने और चांदी में मुनाफावसूली देखी जा रही है. सोने और चांदी में सुस्ती का सबसे बड़ा कारण डॉलर में आई मजबूती है. विश्व की छह मुद्राओं के मुकाबले डॉलर की ताकत बताने वाला डॉलर इंडेक्स लगातार तीन दिनों की तेजी के साथ शुक्रवार को 98.95 के स्तर को छू गया. इसके अलावा, अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक मसलों को सुलझाने की दिशा में नए दौर की वार्ता अगले महीने होने जा रही है, जिससे स्टॉक बाजार में फिर तेजी लौटी है. स्टॉक में आई तेजी से सोने और चांदी के प्रति निवेशकों का रुझान कमजोर हुआ है.

केडिया ने कहा कि हालांकि यह भारतीय बाजार में त्योहारी सीजन में आई गिरावट से ग्राहक खरीदारी के प्रति आकर्षित होंगे. पितृपक्ष शनिवार को समाप्त हो रहा है और रविवार को नवरात्र आरंभ हो रहा है. नवरात्र के साथ ही खरीदारी का सीजन शुरू हो जाएगा. जयपुर के आभूषण कारोबारी सुशील मेघराज ने बताया कि त्योहारी सीजन ग्राहक आमतौर पर भाव कम होने पर बुकिंग करवा लेते हैं और धनतेरस के शुभमुहूर्त में डिलीवरी लेते हैं.