Gold Rate: बीते दिनों से सोने की कीमतों में बढ़ने-घटने का क्रम जारी है , लेकिन इस बीच सोने की कीमत में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. शुक्रवार को मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर गोल्ड की कीमत (Gold Price) 318 रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट के साथ 48,880 रुपये पर बंद हुई. ऐसे में एक्सपर्ट्स की मानें तो सोने के भाव में यह गिरावट बुलियन निवेशकों के लिए अच्छी खबर है. उनका कहना है कि सोने की कीमते कंसोलिडेशन के दौर से गुजर रही हैं और आगे यह 48,500 रुपये प्रति 10 ग्राम का स्तर भी छू सकती हैं.Also Read - Gold price today, 27 July 2021: निचले स्तरों से सुधरा सोना, चांदी में नरमी बरकरार, जानिए- आज क्या हैं 10 ग्राम सोने के रेट?

बुलियन एक्सपर्ट्स (Bullion Expert) का कहना है कि किसी भी गिरावट में सोने में निवेश करना चाहिए. सोना दिसंबर 2021 के अंत तक 53,500 रुपये प्रति 10 ग्राम का स्तर छू सकता है. Also Read - Gold, silver price today, 26 July 2021: सोने-चांदी के भावों में बढ़त, जानिए- आज क्या है 10 ग्राम सोने के रेट?

मोतीलाल ओसवाल के Amit Sajeja का कहना है कि गोल्ड की कीमतें कंसोलिडेशन के दौर से गुजर रही है और यह दौर अगले 1 महीने तक जारी रहता दिख सकता है। इस दौरान सोना 48,300 से 49,500 रुपये प्रति 10 ग्राम के रेंज में रह सकता है. ऐसे में गोल्ड निवेशकों ने सलाह दी है कि  इस गिरावट को निवेश का मौका मानते हुए हर गिरावट पर सोने की खरीद करें. इससे मीडियम टर्म में गोल्ड का आउटलुक काफी अच्छा नजर आ रहा है और आगे मीडियम टर्म में सोना 51,000 रुपये का स्तर आसानी से छू सकता है. Also Read - Gold Rate, Cheapest Gold: इतना सस्ता हो गया है सोना, फटाफट खरीद लें नहीं तो पड़ेगा पछताना, जानें क्या है गोल्ड का रेट

उन्होंने आगे कहा कि यूएस डॉलर में कमजोरी, सोने में कमजोरी की मुख्य वजह है. वर्तमान में यूएस डॉलर साइडवेज नजर आ रहा है और करेंसी मार्केट में यह 89.50 से 91 के बीच कारोबार कर रहा है.

वहीं, IIFL Securities के अनुज गुप्ता का भी कहना है कि मीडियम और लॉन्ग टर्म नजरिए से सोने का आउटलुक पॉजिटिव बना हुआ है. निवेशकों को गिरावट पर खरीद की रणनीति बनाए रखनी चाहिए. अनुज गुप्ता का कहना है कि घरेलू बाजार में दिवाली तक गोल़्ड की कीमतें 53,500 रुपये तक का स्तर छू सकती हैं. उन्होंने कहा कि 15 जुलाई 2021 के बाद गोल्ड में रैली आती दिख सकती है जो दिवाली से इस साल के अंत तक अपने पीक पर रह सकती है.